Vitamins Chart in Hindi – विटामिन के नाम उपयोग एवं स्रोत

विटामिन : मानव शरीर को जीवित रहने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है, लेकिन स्वस्थ रहने के लिए भोजन में आवश्यक पोषक तत्वों और विटामिनों का होना आवश्यक है। भोजन में विभिन्न पोषक तत्वों के साथ-साथ विटामिन का विशेष महत्व है।

vitamin kya hai

विटामिन क्या है? जानिए हिंदी में

सामान्य चयापचय  के लिए विटामिन के प्रकारोंकी आवश्यकता होती है यदि किसी व्यक्ति के आहार में किसी विटामिन की कमी हो जाती है तो उससे संबंधित रोग हो जाता है। विटामिन का मुख्य कार्य हमारे भोजन को ईंधन में परिवर्तित करना है ताकि भोजन ठीक से पच सके।

विटामिन की खोज

डच चिकित्सक क्रिस्टियान ईजकमैन  ने विटामिन की खोज की। विटामिन शब्द 1912 में पोलिश बायोकेमिस्ट कासिमिर फंक  द्वारा गढ़ा गया था।

विटामिन के रासायनिक नाम और रोग PDF

विटामिन के रासायनिक नाम और रोग PDF– विटामिन और उनकी कमी से होने वाले रोग, इनके रासायनिक नाम एवं स्रोत

1. Vitamin-A (विटामिन-ए):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- रतौंधी, संक्रमणों का खतरा, जीरोप्थैरलमिया
  • रासायनिक नाम:- रेटिनॉल (Retinol)
  • स्रोत:- दूध, अंडा, पनीर, हरी साग-सब्जी, मछली
2. Vitamin-B1 (विटामिन-बी वन):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- बेरी-बेरी
  • रासायनिक नाम:- थायमिन (Thiamine)
  • स्रोत:- मूँगफली, तिल, सुखी मिर्च, अंडा, गाजर, खमीर, दूध, साबुत अन्न, समुद्री भोजन, चावल, गेहूँ, हरी-सब्जी
3. Vitamin-B2 (विटामिन-बी टू):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- त्वचा का फटना, आखों का लाल होना, जिह्वा का फटना, शरीर के भार में कमी
  • रासायनिक नाम:- राइबोफ्लेविन (Riboflavin)
  • स्रोत:- खमीर, कलेजी, माँस, दूध, मटर, यीस्ट, अंडा

4. Vitamin-B3 (विटामिन-बी थ्री):-

  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- बाल सफेद होना, मंदबुद्धि होना
  • रासायनिक नाम:- नियासिन (Niacin)
  • स्रोत:- माँस, दूध, टमाटर, मूँगफली, गणना, गन्ना
5. Vitamin-B5 (विटामिन-बी फाइव):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- पेलाग्रा (त्वचा दाद), 4-D-सिन्ड्रॉम
  • रासायनिक नाम:- पैंटोथैनिक (Pantothenic)
  • स्रोत:- अंकुरित गेहूँ, आलू, बादाम, टमाटर, पत्तेदार सब्जियाँ, माँस
6. Vitamin-B6 (विटामिन-बी सिक्स):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- शरीर के वृद्धि में कमी, एनीमिया, त्वचा रोग
  • रासायनिक नाम:- पायरीडॉक्सीन (Pyridoxine)
  • स्रोत:- यकृत, माँस, अनाज, हरी-सब्जी, अंडे की ज़र्दी
7. Vitamin-B7 or H (विटामिन-बी सेवन या एच):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- लकवा, शरीर में दर्द, बालों का झरना
  • रासायनिक नाम:- बायोटिन (Biotin)
  • स्रोत:- मांस, अंडा, यकृत, दूध, बाजरा, ज्वार, मैदा, चावल, सोयाबीन, गेहूं
8. Vitamin-B9 (विटामिन-बी नाइन):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- चक्कर आना, त्वचा में पीलापन, अनियमित दिल की धड़कनें, वजन घटना, हाथों और पैरों में सुन्नता व झुनझुनी महसूस होना, मांसपेशियों में कमजोरी, व्यक्तित्व में बदलाव, सांस फूलना, अस्थिरता, थकान, मानसिक भ्रम या बार-बार भूलना।
  • रासायनिक नाम:- फोलिक एसिड (Folic acid)
  • स्रोत:- अंकुरित अनाज, मटर, मूंगफली हरी पत्तेदार सब्जियां, खट्टे फल, केले, खरबूजे, टमाटर का रस, अंडे, बीन्स फलियां
9. Vitamin-B12 (विटामिन-बी ट्वेल्व):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- अत्याधिक थकान या सुस्ती, कमजोरी या सुस्ती महसूस होना, सांस फूलना, बेहोशी-सा महसूस होना, सिरदर्द ,कान बजना, भूख कम लगना।
  • रासायनिक नाम:- साएनोकोबालामिन (Cyanocobalamine)
  • स्रोत:- सूअर का मांस, चिकन, भेड़ का मांस, मछली, दूध, दही, पनीर,पौष्टिक खमीर, अंडे
10. Vitamin-C (विटामिन-सी):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- मसूढ़े का फूलना, स्कर्वी, चिड़चिड़ापन, भूख न लगना, सुस्ती, वजन कम होना, बुखार, कमजोरी, टांगों में दर्द, थकाव
  • रासायनिक नाम:- एस्कॉर्बिक एसिड (Ascorbic Acid)
  • स्रोत:- नींबू, संतरा, अमरूद, काले किशमिश, लाल मिर्च, हरी मिर्च, पीला शिमला मिर्च, लाल शिमला मिर्च, स्ट्राबेरी, पपीता, लीची, मटर, फूलगोभी, आलू, टमाटर, आँवला
11. Vitamin-D (विटामिन-डी):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- रिकेट्स (बच्चों में), ऑस्टिओमलेशिया (वयस्क), पाचन संबंधी परेशानी, बाल झड़ना, सिर में पसीना आना, हड्डियों और जोड़ों पर दर्द होना, पाचन संबंधी परेशानी
  • रासायनिक नाम:– कैल्सिफैरोल (Calciferol)
  • स्रोत:- अंडे के पीले भाग, टमाटर, हरी सब्जियां, शलजम, नींबू, मालटा, मूली, पत्ता गोभी, पनीर, सूर्य का प्रकाश, दूध
12. Vitamin-E (विटामिन-इ):-
  • उनकी कमी से होने वाले रोग:- जनन शक्ति का कम होना, एनीमिया, कंकाल मायोपथी, गतिभंग, परिधीय न्यूरोपैथी, रेटिनोपैथी, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया, तंत्रिका क्षति
  • रासायनिक नाम:- टोकोफेरोल (Tocopherol)
  • स्रोत:- बादाम, मूंगफली, अखरोट, सूरजमुखी के तेल, गेहूं, कुसुम, मक्का, सोयाबीन

एड़ी फटने की क्रीम कौनए सी है?

विटामिन कितने प्रकार के होते हैं?

आपको बता दे की विटामिन को दो भागों में बांटा गया है-

  1. वसा में घुलनशील विटामिन (Fat Soluble Vitamins)
  2. पानी में घुलनशील विटामिन (Water Soluble Vitamins)
1. वसा में घुलनशील विटामिन का नाम

विटामिन A, D, I और K वसा में घुलनशील हैं। वसा में घुलनशील विटामिन शरीर और यकृत के वसा ऊतकों में जमा होते हैं। वसा में घुलनशील विटामिन वसा या लिपिड की मदद से आंतों के माध्यम से अवशोषित होते हैं और लंबे समय तक शरीर में जमा हो सकते हैं।

2. पानी में घुलनशील विटामिन का नाम

विटामिन B1, B2, B3, B5, B6, B7, B9, B12 और सी यानी B और C पानी में घुलनशील हैं। इन विटामिनों को शरीर में अधिक समय तक संग्रहीत नहीं किया जा सकता है। और ये पेशाब के जरिए जल्दी बाहर निकल जाते हैं।

कोस्पी मनीकंट्रोल शेयर बाजार

विटामिन के प्रकार, स्रोत, कमी से होने वाले रोग

विटामिन चार्ट इन हिंदी पीडीएफ :- कुछ लोगों का यह सवाल रहता है कि खाने में विटामिन क्यों जरूरी है ? शरीर के सही विकास के लिए विटामिन की जरूरत होती है. अब आपको बताते है विटामिन के प्रकार ,स्रोत और विटामिन की कमी से रोग के बारे में :-

1. विटामिन A (रेटिनॉल)
  • कमी से होने वाले रोग – रतौंधी, जीरोफथाल्मिया, संक्रमण का खतरा
  • स्रोत – दूध, अंडा, हरी सब्जियां, पनीर, लीवर ऑयल
2. विटामिन – B1 (थियामिन)
  • कमी से होने वाले रोग – बेरी-बेरी
  • स्रोत – तिल, मूंगफली, सूखी मिर्च, अंडा, जिगर, सब्जियां, बिना धुली दालें
3. विटामिन – B2 (राइबोलोविन)
  • कमी से होने वाले रोग – त्वचा का फटना, जीभ का फटना, आँखों का लाल होना
  • स्रोत – दूध, हरी सब्जियां, मांस, खमीर, यकृत
4. विटामिन B3 (पैंटोथेनिक)
  • कमी से होने वाले रोग – मंदबुद्धि, बालों का सफेद होना
  • स्रोत – दूध, मांस, मूंगफली, गन्ना, टमाटर
5. विटामिन – B5 (निकोटिनामाइट/नियासिन)
  • कमी से होने वाले रोग – पेलाग्रा (त्वचा पर लाल चकत्ते) या 4-डी – सिंड्रोम
  • स्रोत – आलू, टमाटर, पत्तेदार सब्जियां, मूंगफली
6. विटामिन – B6 (पाइरिडोक्सिन)
  • कमी से होने वाले रोग – रक्ताल्पता, त्वचा रोग
  • स्रोत – मांस, यकृत, अनाज
7. विटामिन – B7 (बायोटिन)
  • कमी से होने वाले रोग – बाल झड़ना, शरीर में दर्द, लकवा
  • स्रोत – मांस, अंडा, यकृत, दूध
8. विटामिन – B12 (सायनोकोबालामिन)
  • कमी से होने वाले रोग – रक्ताल्पता, पांडुरोग
  • स्रोत- मांस, जिगर, दूध
9. फोलिक एसिड – (टेरॉयल ग्लूटामिक)
  • कमी से होने वाले रोग – रक्ताल्पता, पेचिश
  • स्रोत – बीन्स, अंडे, दाल, सब्जियां, लीवर
10. विटामिन C (एस्कॉर्बिक एसिड)
  • कमी से होने वाले रोग – स्कर्वी, मसूड़े की सूजन
  • स्रोत – नींबू, संतरा, संतरा, खट्टे, टमाटर, मिर्च, अंकुरित अनाज
11. विटामिन D (कैल्सीफेरॉल)
  • कमी से होने वाले रोग – बच्चों में रिकेट्स, वयस्कों में ओस्टिया मलेशिया
  • स्रोत – दूध, अंडे, जिगर, मछली का तेल
12. विटामिन I (टोकोफेरोल)
  • कमी से होने वाले रोग – प्रजनन क्षमता में कमी
  • स्रोत – दूध, मक्खन, वनस्पति तेल, अंकुरित गेहूं, पत्तेदार सब्जियां
13. विटामिन K (फाइलोक्विनोज)
  • कमी से होने वाले रोग – रक्त का थक्का न बनना
  • स्रोत – टमाटर, हरी सब्जियां, जो आंतों में भी उत्पन्न होती हैं

जीवन पर अनमोल विचार

अंतिम शब्द :- इस पोस्ट में हमने आपको विटामिन के नाम, प्रकार, उपयोग और कमी से होने वाले रोग के बारे में  जानकारी दी है | अगर आपको विटामिन के नाम, प्रकार, उपयोग और कमी से होने वाले रोग के बारे में लिखी जानकारी पसंद आयी तो अपने दोस्तों  शेयर करे | सधन्यवाद |

अंडे खाने के फायदे

Similar Posts

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.