सीने में दर्द का घरेलू इलाज – Home Remedies for Chest Pain in Hindi

सीने में दर्द :- आज हम आपको बताएगे गई सीने में दर्द का घरेलू इलाज आप की तरह से कर सकते हो और इसकी पूरी जानकरी दी जाएगी तो आइये शुरू करते है।

सीने में दर्द
सीने में दर्द का घरेलू इलाज

सीने का दर्द क्या है

सीने में दर्द चिंता का विषय है। सर्दी के मौसम में यह समस्या और बढ़ जाती है। छाती या सीने में दर्द के अलग-अलग कारण हो सकते हैं और ज्यादातर मामलों में ये कारण रोगी को स्पष्ट रूप से नहीं पता होते हैं। सीने में दर्द कई तरह का हो सकता है। यह छाती में तेज चुभन से लेकर हल्का दर्द तक हो सकता है। कई बार यह दर्द गर्दन और जबड़े तक पहुंच जाता है। यह हृदय संबंधी किसी रोग का दर्द भी हो सकता है। इसलिए इसे हल्के में न लें।

क्यों होता है सीने में दर्द

सीने में दर्द के दो मुख्य कारण हो सकते हैं। ज्यादातर मामलों में दर्द गैस या एसिडिटी के कारण होता है। हृदय की मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह में रुकावट सीने में दर्द का मुख्य कारण है। इस स्थिति को एनजाइना कहा जाता है। एनजाइना का दर्द अस्थायी होता है और अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन यह गंभीर हो सकता है अगर दर्द दिल से संबंधित किसी समस्या के कारण हो। यह दिल का दौरा भी हो सकता है और तत्काल उपचार की आवश्यकता है। इसके अलावा यह दर्द छाती की मांसपेशियों में खिंचाव और फेफड़ों से संबंधित किसी रोग के कारण भी हो सकता है।

यह भी पढ़े :-

सीने में दर्द के कारण

सीने में दर्द हृदय संबंधी समस्याओं के अलावा अन्य कारणों से भी हो सकता है। यह समस्या फेफड़ों के संक्रमण, आहार नाल, मांसपेशियों, पसली की नसों की किसी समस्या के कारण भी हो सकती है। छाती या छाती में गर्दन के निचले हिस्से से लेकर पेट के ऊपरी हिस्से तक कहीं भी भारीपन और दर्द महसूस किया जा सकता है।

हार्ट अटैक और हार्ट बर्न में अंतर

हार्टबर्न या एसिडिटी का संबंध दिल के दर्द से नहीं है, लेकिन यह समस्या पेट में बनने वाले एसिड की वजह से होती है। सीने या गले में जलन और खट्टी डकारें आना, उल्टी का अहसास होना, पेट में भारीपन महसूस होना, ये सभी हार्टबर्न के लक्षण हैं। यदि आप एक बार में बहुत अधिक खाना खाते हैं, तो पेट और अन्नप्रणाली के बीच एक वाल्व बन जाता है। यह वॉल्व पेट में बनने वाले एसिड को एसोफैगस की तरफ धकेलता है, जिससे आपको सीने में गैस के लक्षण महसूस होते हैं।

सीने में भारीपन और दर्द और जलन होती है। शरीर के अन्य अंगों की तरह हृदय को भी लगातार काम करने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है। रक्त वाहिकाएं रक्त के साथ ऑक्सीजन को हृदय तक ले जाती हैं। रक्त को हृदय तक ले जाने वाली रक्त वाहिकाओं को कोरोनरी धमनियां कहा जाता है। लेकिन जब भी वसा, प्रोटीन या रक्त के थक्के के कारण कोई धमनी अचानक अवरुद्ध हो जाती है, तो दिल का दौरा पड़ता है।

हार्टबर्न के कारण सीने में जलन और दर्द होता है, लेकिन इसके साथ ही आपको अपनी आहारनाल में जलन भी महसूस होती है, साथ ही कभी-कभी डकार के बाद खाना निकलने जैसा भी महसूस होता है। जहां दिल का दौरा पड़ने वाला दर्द कंधों, गर्दन और बाहों तक फैलता है, वहीं दिल के दौरे के कारण होने वाले दर्द में आमतौर पर ठंडा पसीना और चक्कर आना और सांस लेने में तकलीफ शामिल होती है।

सीने में दर्द से बचाव

सीने में दर्द से बचने के लिए जरूरी है कि आप अपने खान-पान और जीवनशैली में बदलाव करें। इससे सीने में दर्द की संभावना को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। सीने में दर्द का कारण मूल रूप से अस्वास्थ्यकर खान-पान है। हमें अपने खान-पान में सुधार के साथ-साथ नियमित व्यायाम भी करना चाहिए।

  • व्यायाम जरुर करें जैसे-तेज कदमों से चलना, सीढ़ियाँ चढ़ना, बैडमिंटन या टेनिस खेलना आदि।
  • सीने में दर्द का कारण अस्वस्थ खान-पान से है। खान-पान में सुधार के साथ हमें नियमित रुप से व्यायाम करना चाहिए।
  • ज्यादा ठण्ड वाले वातावरण से बचे।
  • आहार में फाइबर की मात्रा को बढ़ाए और कैलोरी की मात्रा को कम करें।
  • खाने में नमक की मात्रा को कम करें और अगर हो सके तो बिलकुल छोड़ दें।
  • धूमपान हृदय संबंधी बीमारी को बढ़ाता है अत: इसका सेवन न करें।
  • एक ग्लास अनार का जूस पियें।

सीने में दर्द का घरेलू इलाज

आमतौर पर लोग सीने में दर्द होने पर सबसे पहले घरेलू नुस्खे आजमाते हैं :-

  • लहसुन
  • अदरक
  • बादाम
  • हल्दी
  • एलोवेरा
  • अनार
  • तुलसी

लहसुन

सीने के दर्द में लहसुन बहुत फायदेमंद होता है। एक स्टडी के मुताबिक रोजाना लहसुन खाने से दिल की बीमारी होने की संभावना कम हो जाती है और इसके इलाज में मदद मिलती है। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और प्लाक को धमनियों तक पहुंचने से रोकता है। यह रक्त प्रवाह में सुधार करने में भी मदद करता है। रोजाना 1 चम्मच लहसुन के रस को गर्म पानी में मिलाकर लें। नहीं तो रोजाना एक लहसुन और 2 लौंग चबाकर खाएं।

अदरक

हृदय रोगों में भी अदरक उपयोगी है। अदरक में जिंजरोल नामक एक रासायनिक यौगिक होता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। अदरक में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो रक्त वाहिकाओं को नुकसान से बचाते हैं। इसके लिए आप रोजाना इस तरह से अदरक का सेवन कर सकते हैं-

  1. रोजाना अदरक की चाय पिएं।
  2. अदरक को पानी में उबालकर उस पानी का रोजाना सेवन करें।
  3. रोजाना कच्चे अदरक का सेवन करें।

हल्दी

हल्दी में करक्यूमिन कम मात्रा में मौजूद होता है। जो विशेष रूप से धमनियों के प्लाक को जमने और कम करने में मदद करता है। करक्यूमिन छाती की सूजन को भी कम करता है। सीने में दर्द होने पर इससे तुरंत आराम मिलता है। रोजाना गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से सीने के दर्द में आराम मिलता है।

बादाम

बादाम पॉली नेचुरल फैटी एसिड से भरपूर होते हैं और साथ ही इसमें मैग्नीशियम भी होता है। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और सीने में दर्द के जोखिम को कम करता है। सीने में दर्द होने पर बादाम के तेल और गुलाब के तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर लें। इस मिश्रण को छाती में धीरे-धीरे लगाएं। इसके अलावा रोजाना एक मुट्ठी बादाम का सेवन करें।

एलोवेरा

यह एक चमत्कारी पौधा है, इसमें कई औषधीय गुण होते हैं, इसमें मौजूद गुण हृदय को मजबूत करने, अच्छे कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने, ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने और रक्तचाप और छाती में सभी कारकों को कम करने में मदद करते हैं। दर्द में राहत प्रदान करने में मदद करता है। रोजाना 1/4 कप जूस का सेवन गर्म पानी के साथ करें।

अनार

अनार दिल की समस्याओं को दूर करने में बहुत उपयोगी होता है। यह तनाव को कम करके धमनियों की दीवारों में क्षति और ऑक्सीकरण को रोकने में मदद करता है। स्ट्रोक और परिधीय रोग धमनियों के संकुचन का कारण बनते हैं। अनार का जूस उन समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। अनार के रस के नियमित सेवन से इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सीने में दर्द को रोकने में मदद करते हैं।

तुलसी

तुलसी के पत्तों में विटामिन K और मैग्नीशियम पाया जाता है। मैग्नीशियम हृदय में रक्त प्रवाह में कोलेस्ट्रॉल के निर्माण को रोकता है। यह हृदय संबंधी विकारों के साथ-साथ सीने में दर्द के इलाज में मदद करता है। एक चम्मच तुलसी का रस शहद के साथ लेने से लाभ मिलता है। या फिर 8-10 तुलसी के पत्ते खाने से भी सीने के दर्द में आराम मिलता है।

सीने में गैस के उपाय

रोजाना अगर आप सुबह उठकर गुनगुना पानी पिएंगे तो ये गैस की समस्या में आराम दिलाने में मदद करेगा। गर्म पानी पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। साथ ही ये एसिडिटी में भी राहत पहुंचाता है। सरसों का बीज का सेवन करने से भी आपको एसिडिटी में राहत मिलेगी।

यह भी पढ़े :-

अंतिम शब्द :- आज हमने आपको बताया की सीने में दर्द का घरेलू इलाज किस तरह कर सकते है आशा है आपको आपके सवालों का जवाब मिल गया होगा। धन्यवाद

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.