Saharan Caste in Hindi – सहारण जाति का इतिहास

Saharan Caste– दोस्तों, सहारण जाति जाट समाज की एक जनजाति है और सहारण जाति(Saharan Caste) के बारे में कुछ अन्य जानकारी भी आपको देंगे, जैसे की सहारण जाति की उत्पत्ति केसे हुई और सहारण जाति का इतिहास क्या है? तो आओ शुरू करें-

Saharan Caste in Hindi

Saharan Caste in Hindi

Saharan Caste– सारण, सहारन (सहारण) भारत में राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश में जाटों की एक जनजाति है। वे भाटी संघ के समर्थक थे।

भटन के अनुसार, सहारन गोत्र की उत्पत्ति राजा बलि के पुत्र सारण देव से हुई थी। सारण(Saharan Caste) जाट मूल रूप से चंद्रवंशी राजा ययाति के वंशज हैं।

सहारन गोत्र(Saharan Caste) की प्रसिद्धि संवत 1122 (1065 ईस्वी) में हुई जब राजा सरन द्वारा पुराना नाम वरबुदियावास था, सहारनपुर राज्य का नाम वर्ष 1122 (1065 ईस्वी) में स्थापित किया गया था।

सारण जाट की कुलदेवी कौन है?

कुलदेवी जाट ने अबू पर खेती शुरू की और कुलदेवी के सम्मान में माँ अर्बुदा को आत्मसमर्पण कर दिया था, इसलिए जाट अंजना चौधरी की कुलदेवी हैं। माता अर्बुदा अंजना चौधरी के परिवार की देवी (पूर्वजों की तीसरी देवी) हैं। मुख्य मंदिर राजस्थान के माउंट आबू में स्थित है।

Saran जाति का इतिहास – Saharan Caste

सारण गोत्र(Saharan Caste) भट्टी गोत्र की एक शाखा है और सारण जाट जैसलमेर के शाही वंश से संबंधित हैं। उसकी राजधानी बीकानेर राज्य में थी, जिस पर बाद में राठौड़ों ने कब्जा कर लिया। सारण आज भी इस क्षेत्र में रहते हैं।

इस गोत्र के इतिहास में काजल सिंह और उनके पुत्र रणधीर सिंह नाम के दो प्रसिद्ध व्यक्ति हुए हैं। काजल सिंह जाटों के काजला गोत्र की पूर्वज हैं जो ज्यादातर बीकानेर और हरियाणा में रहती हैं।

Saharan caste category

Saharan Caste– सहारन या सारण भारत में राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश में जाटों का एक गोत्र है। वे हिंदू और सिख धर्मों से संबंधित हैं। स्थानीय परंपराओं के अनुसार वे जंगलदेश में शासक थे। जंगलदेश राजस्थान में बीकानेर की रियासत के साथ मेल खाता था।

Saharan surname caste

Saharan Caste– सारण कुल जाट-क्षत्रिय हैं। सारण और उनके पूर्वज जाट थे। वे उस समय से जाट थे जब लोगों को पता भी नहीं था कि राजपूत भी एक जाति हैं। जंगल-प्रदेश में उसके अधिकार में 300 से अधिक कस्बे और गाँव थे।

Saharan caste in Haryana

  • भिवानी जिले के गांव
    बरवास,
  • कैथल जिले के गांव
    दुबल, खड़क, कोले-खान,
  • जींद जिले के गांव
    जुलानी, ख्रींती,
  • हिसार जिले के गांव
    चौधरीवास, कुठारा, बड़छापर, बगला, कैमरी, खारिया हिसार, रियासर, जुलाना, खेरती, लाडवी, मुकलन, हसनगढ़, यजारा, विरवाल, सरसाना, खेदार, परभुवाला,
  • सिरसा जिले के गांव
    अली मोहम्मद, आसा खेरा, बारासरी, चौटाला, धिंगटानिया, फरमाना खास (महम), झिट्टीखेड़ा, कलुआना, कलवाना, लखुआना, जसानिया, नुहियां वाली, शकर मंडोरी, शेरगढ़ (सिख सारण शेरगढ़ में है)
  • फतेहाबाद जिले के गांव
    भट्टू कलां, पीली मंडोरी,
  • रोहतक जिले के गांव
    फरसाना (फरसाना), फरमाना खास, मदीना (मदीना), भैनी चंद्रपाल (भैनी चंद्रपाल), सिंहपुर, निदान, वेलवा, साइमन,
  • कुरुक्षेत्र जिले में गांव
    बच्चे
  • यमुनानगर जिले में गांव
    दादूपुर छावनी, जथलाना,

Saharan caste category in Rajasthan

  • जयपुर जिले के गांव
    अकोड़ा, खंडेल जयपुर, खुरियाल, लखोलाई फागी, मुकुंदपुरा दादावता, प्रतापपुरा फागी, सुन्डिया, तुतोली, ममना डूडू, ​​मंगलवाड़ा, मीरापुरा,
  • अजमेर जिले के गांव
    कोटरी अजमेर, सतह,
  • अलवर जिले में गांव
    शांत बस,
  • दौसा जिले के गांव
    पंडितपुरा,
  • जोधपुर जिले के गांव
    आऊ, अगोलाई, आंवला, अर्तिया कलां, बगोरिया, बालेसर दुर्गावतन, बम्बोर दरजियां, भावी, बीरवास, बीसलपुर, बोयाल, चामू, डाइकारा, हीरादेसर, जलेली, जंदेसर, जाति भांडू, जोधपुर, खारिया, झंडू, जाति, खंडेवार, भावी, बिरवास, बीसलपुर, बोयाल झंवर, खिचन, कुरी, लावेरा कलानी, मथानिया, मटोरा, नंदारा कलां, नंदिया खुर्द, ओस्तरन, पांचला खुर्द, फलोदी, रायकोरिया, रायमलवाड़ा, रातकुड़िया, सदरी, सलवा कल्ला, समरौ, सरनलपुरा, सरनलपुरा, शिव ( सरनलपुरा, सारणपुरा) धान,
  • नागौर जिले के गांव
    अरवर, बगरासर, बजोली, बकालिया, बरनी नागौर, बर्नेल (परबतसर), बासनी खलील, बर्थल कलां, भैया खुर्द, चित्तानी, डेगाना गणव, दधवारा, देशवाल, धतियाड, धुंडियारी, गछियारा, गोटन। , खेरी लीला, खंडाला, लंबी डेयरी, महाराणा, महाराणा, नगरी, नरवा कलां, रायधुनु, रसल, रिदमाला, रोल, सरनवास, सरुंडा, साथेरान, उदयपुर,
  • बाड़मेर जिले के गांव
    आदेल, आदर्श गोलिया, आदर्श कटारला, अकदली धनसिंह, अमरजी की ढाणी, बकरी सारण की ढाणी, बालेवा, बालोतरा, बंता, बाड़मेर, बसरा-रामसर, बटारू, बयतू, बयातू पंजी, बेरीवाला ताला भीमरा, बूथ, जेट , चारी बाड़मेर, चावा, चितर का पर, चिरिया, चोखला, धरसर, दुधू, गरल, गोलिया, जेतमाल, जैदु, जेमलानी, सरनोन का ताल, झाख, झिंगी नदी, कल्याणपुर, कनासर, कनोर, कसुम्बला भाटियान, कश्मीर, केहरानी केकड़ा , खरापार, खारिन, कोरना, कोसरिया, कोशलू, कोठाला, कोटरा बाड़मेर, माधसर, मालपुर, मंद्रोपोनी की ढाणी, मोखब खुर्द, नौख, नया भूटिया (कवास), नोखरा, पारे, पुबेरा, पूनी का ताला। , पूर्वा, रंगवाली, रातू, रतसर, रावतसर, सहर, सांवर कलां, सांवलोर, सरनोन का ताला, सरनो की बेरी, सरनो की नारी, सरनू, सावू, साव मूलराज बयतू, सावु पदमसिंह, सिंदरी बेरी, शोभाला बेरी, स्वामी की बेरी तारातारा मठ, उमरलाई खालसा, मेवा नगर
  • जैसलमेर जिले के गांव
    भानियाना, मंडई,
  • पाली जिले के गांव
    बेरा गेनाडी (ददिया), चंदावल नगर, धुंग (सोजत), मांडिया, रामवास खुर्द, सारंगवास (सोजत), सोजत रोड,
  • जालोर जिले के गांव
    चीतलवाना, गुंडौ, खारा, लालजी की डूंगरी, मीरपुर खेड़ा,
  • सीकर जिले में गांव
    चुवास, हुदेरा, मिर्जावास, पुण्याना, घिरनिया बड़
  • चुरू जिले के गांव
    चुरू के आसपास 90 सहारन जाट गांव हैं। सहारन के बसे हुए गांव हैं: अबसर, अजितसर, अलसर, अमरसर सुजानगढ़, बैरासर मांजला, बलाल, बलरासर, बंधनाऊ, बंदवा, बसनौ, भलाऊ तीबा, भगेला, भानिन, भानीपुरा चुरू, बिनादेसर, बनियाला बाएन, भारंग, बिनासर, बिनासर भोजरासर, भुवारी, बिदासर, बिल्युन, बोघेरा, बुकावास, बुकानसर बारा, चड़सर, छाबरी खारी, छपर चुरू, चिमनपुरा, डाबरी बड़ी, दलमन, देवीगीर राजगढ़, देवासर चुरू, धानी, धानी दोड़, आशा, धी धी पंचेरा, चरण, धीरवास छोटा, ढींगी, ढीघराला, धनौती बारी, गगोर, गोदास, गजुवास, गजासर, गजुसर, गिदगिचिया, गोलसर, गोथ्यान बारी, गुसाईंसार, हरियासर जतन, हरपालू, जैसर, हीरा का बस, का, कैलसर, ज्याक, कंधलसर, करनसार, करेजरा कस्वां, कटार बारी, खसोली, खेजरन, खुदी खारी, कोहिना, लच्छसर, लालगढ़, लोहासर, ना, मालसर, राजगढ़, मेलसर नंगल बारी, नेठवा, पहाड़सर, पुलसरथ, पिचबसारी, फोगसर ताल, पहाड़सर, पूनुसर, पुनरास, राजस, रतनपुरा , रत्नदेसर, राघ छोटी, राघ बारी, रायटुंडा, राजपुरा, रामसीसर, रतन पुरा, साव सर, रतनपुर, संगसर, सरदारशहर, सरसर, सत्युन, सेवा, शिमला सरदारशहर, सिमसिया, सिरसाला, सुजानगढ़, सूरतपुरा, थिरियासर, तिदियासर, तोगावास, उदासीर, उदासीर बिदावतन, उडसर, उडसर लोडेरा, बारी उडरिया, हमनी, धान नंगलवास।
  • बीकानेर जिले में गांव
    अर्जुनसर स्टेशन, बज्जू, बरासर नोखा, भामतसर, बीगवास रामसारा, बीकानेर, गढ़वाला बीकानेर, किशनसर, कोलायत, नाथूसर, लालम देसर बड़ा, राजपुरा हुड्डन, रामनगर, कुंतसर, तख्तपुरा, उदासीर,
  • हनुमानगढ़ जिले के गांव
    22 एनडीआर, अरडकी, अमरपुरा रतन, बशीर, भागुवाला, भगवान, भैरुसरी, भरवाना, भोजसर, बोलनवाली, चहुवाली (चहुवाली), छैया, चानन, छनी बड़ी, छप्पनवाली, दबली खुर्द, दौलतपुरा टिब्बी, दीपलाना, ढाबन, धनढेला , डिनगढ़, घोटड़ा, गोगामेरी, गोलूवाला, हनुमानगढ़, जसाना, जोरावरपुरा ठेड़ी, मनुका, मोरजंद खारी, मेटोरियन वाली ढाणी, नागराना, नाथोर, नथवाना, नुकेरा, नौलखी, पक्का सहारा (पक्का सहारा), पक्की डबली, पंडितनवाली, पीरकाडिया , पीलीबंगा, पीपरान, रामगढ़, रामपुर रत्नावली, रामपुर रत्नावली, सालीवाला, सिलवाला कलां, सिलवाला खुर्द, संगरिया, श्री डूंगरसिंगपुरा, तेजा खेड़ा, थालरका, तिदियासर, तोपरिया, तोपरिया बरनी,
  • श्रीगंगानगर जिले के गांव
    17 एलएनपी, 10 एसपीडी, 46 आरबीए पदमपुर, अमरपुरा जाटन, बख्ताना 13क्यू, भोमपुरा, बिंझबैला, चक 1एफ छोटी, चक सीएच.रूपा राम वाला, ज्योति 15/16 एलएलजी, चक मनफूल वाला, चक-4z II, ढिंगावली जतन, डूंगर सिंह पुरा, गणेशगढ़, घरसाना, कलवासिया, केएसडी ढाणी, लधुवाला, लालगढ़ जाटन, लिखमेवाला, मधेरा, मम्मद, पुरानी आबादी, रावला, साधुवाली, सादुलशहर, सरदारपुरा जीवन, तातारसर,
  • झुंझुनू जिले के गांव
    भैंसावत कलां, बिरोल, खेदार की ढाणी,
  • टोंक जिले के गांव
    बागपुरा, भैरूपुरा, कचोल्या, काला की ढाणी, नया ढिला, पेंड्राडा,
  • भीलवाड़ा जिले में गांव
    सरनो का खेरा, सारण का खेरा (मंडलगढ़),
  • सिरोही जिले के गांव
    सरन का खेरा

अन्य जातियों के बारे में-

Meena CasteKayastha Caste
Nadar CasteBaniya Caste
Nair CasteChamar Caste
Rawat CasteKurmi Caste
Vanniyar CasteGupta Caste

निष्कर्ष- दोस्तों, इस पोस्ट में हमने आपको सहारण जाति(Saharan Caste) के बारे में जानकारी दी है और इसके साथ साथ सहारन जाति(Saharan Caste) का इतिहास और कुछ अन्य जानकारी भी दी है, अगर जानकारी पसंद आयी तो शेयर करें और कमेंट करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *