Rawat Caste – रावत जाति का इतिहास – रावत जाति गोत्र

Rawat Caste क्या है और रावत जाति की उत्पत्ति कैसे हुई, इसके साथ साथ आपको रावत जाति के इतिहास के बारे में भी बात करेंगे। Rawat Caste के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें-

Rawat Caste

रावत जाति हिंदी में

Rawat Caste– रावत एक भारतीय उपनाम है। यह आमतौर पर राजा या राजकुमार का पर्यायवाची है, और माना जाता है कि यह वीरता के सम्मान में राजाओं द्वारा दी जाने वाली एक प्रकार की उपाधि थी, जो वंश में नाम से पहले लिखने की प्रथा बन गई।

रावत ब्राह्मण, राजपूत, गुर्जर, जाट, पासी समाज में पाए जाते हैं। रावत उपनाम वाले राजपूत, जाट और ब्राह्मण मुख्य रूप से राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में केंद्रित हैं, जिनमें से बहुत कम संख्या में पाए जाते हैं और उत्तराखंड के पड़ोसी नेपाल तक फैले हुए हैं।

रावत प्राचीन काल के ऐसे ही महान योद्धा थे। जो राजा के बाद सबसे अधिक पूजनीय स्थान रखता था। उनके पराक्रम, पराक्रम, पराक्रम के कारण शत्रु उनसे डरते थे। अंग्रेजों को भी इनसे हार का सामना करना पड़ा। जिसके कारण यह भारत में स्वतंत्र उपनाम वाली एकमात्र जाति बनी रही। रावत उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले की भीटी रियासत की यादव (अहीर) जाति से आते हैं। रावत मूल रूप से मध्य प्रदेश के क्षत्रिय वर्ग के हैं।

रावत जाति की उत्पत्ति – Rawat Caste

मुख्य रूप से राजस्थान का एक सामाजिक समुदाय, जहां उनकी अधिकांश आबादी केंद्रित है। भूमि अभी भी रावत लोगों के जीवन का मुख्य आधार है। आधुनिक समय में रावत समाज के लोग तरह-तरह के काम कर रहे हैं, लेकिन रावत वंश के ज्यादातर लोग कृषि प्रेमी रहे हैं और खेती करते हैं। आधुनिक समय में भी 81% रावत कृषि करते हैं।

रावत जाति की कुलदेवी – Rawat Caste

रावत समुदाय के लोगों ने अपनी कुलदेवी मां चंडीदेवी की स्थापना की थी, तभी से समुदाय के लोग अखाती के त्योहार को मेले के रूप में मनाते आ रहे हैं।

रावत जाति का इतिहास

Rawat Caste– इतिहासकार बताते हैं कि रावत शब्द राजपूत का ही अपभ्रंश है। राजपूत काल में रावत जाति नहीं, बल्कि चौहान, गहलोत, परमार, सिसोदिया, पवार, गढ़वाल आदि राजघरानों के पास एक शक्तिशाली शासक वर्ग की उपाधि थी, जो दरबार में सम्मान और बड़प्पन का सूचक था। इन शाही परिवारों में रावत की उपाधि से सम्मानित वीर योद्धा रावत-राजपूत कहलाते थे।

Nair Caste – नायर जाति की जनसख्यां और इतिहास
Baniya Caste – बनिया जाति का इतिहास, बनिया जाति सूची

पश्चिमी भारत में रावत जाति – Rawat Caste

मुख्य रूप से राजस्थान का एक सामाजिक समुदाय, जहां उनकी अधिकांश आबादी केंद्रित है। भूमि अभी भी रावत लोगों के जीवन का मुख्य आधार है। आधुनिक समय में रावत समाज के लोग तरह-तरह के काम कर रहे हैं, लेकिन रावत वंश के ज्यादातर लोग कृषि प्रेमी रहे हैं और खेती करते हैं। आधुनिक समय में भी 81% रावत कृषि करते हैं। रावत महासभा, जिसका मुख्यालय अजमेर में है, इसी समुदाय का एक संगठन है।

Mahar Caste – महार जाति का व्यवसाय और इतिहास
Chamar Caste – चमार जाति का इतिहास और चमार रेजीमेंट

रावत किस जाति में आते हैं?

इतिहासकारों के अनुसार राजपूत छत्तीस कुलों में क्षत्रियों का समूह है, रावत जाति का नहीं। बाद में उपाधि लिखने के कारण उन्होंने एक जाति का रूप धारण कर लिया, जो वर्तमान में मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक, हिमाचल और अन्य राज्यों में रावत-राजपूत के नाम से निवास करती है।

Valmiki Caste – वाल्मीकि समाज की जनसंख्या और इतिहास
Bhangi Caste – भंगी जाति कैसे बनी और भंगी जाति के गोत्र

रावत जाति की गोत्र – Rawat Caste

ग्वालियर संभाग एवं मालवा क्षेत्र में रावत उपाधि धारकों के मूल एवं उनकी शाखाएं, जिनकी पहचान ठाकुर/कटारिया/राजपूत के रूप में हुई है। सिकरवार क्षत्रिय – सूर्यवंश की एक शाखा है। गोत्र – भारद्वाज, शांडिल्य, संकृति। प्रवर – तीन – भारद्वाज, बृहस्पति, अंगिरस।

Kshatriya Caste – क्षत्रिय जाति की उत्पत्ति और सामाजिक स्थिति
Tyagi Caste – त्यागी जाति की उत्पत्ति – त्यागी जाति के गोत्र

रावत जाति कि भाषाएँ – Rawat Caste

रावत समुदाय के लोग जगह के अनुसार मेवाड़ी, मारवाड़ी, धुंदरी, कुमाऊंनी, गढ़वाली, अवधी, ब्रजभाषा, मैथिली, भोजपुरी बुंदेली भाषा या बोलियां बोलते हैं।

Jatav Caste – जाटव जाति का इतिहास और अन्य जानकारी
Gupta Caste – गुप्ता जाति की उत्पत्ति और गुप्ता गोत्र लिस्ट

निष्कर्ष- दोस्तों, आपको इस लेख में रावत जाति के बारे में जानकारी प्रदान की है जिसमे मुख्य रूप से रावत जाति (Rawat Caste) की उत्पत्ति, रावत जाति(Rawat Caste) का इतिहास और रावत जाति की कैटेगरी इत्यादी है। अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.