Pyaj ki kheti – प्याज की खेती कैसे करें? Onion farming

Pyaj ki kheti :- नमस्कार किसान भाइयो, प्याज की खेती के बारे में चर्चा करें तो आपको यह पोस्ट बहुत फायदेमंद होगा यदि आप प्याज की खेती करने के बारे में सोच रहे हो तो क्योंकि इस पोस्ट में आपको प्याज की खेती के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी। तो आओ शुरू करते है प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) के बारे में जानकारी:-

Pyaj ki kheti

यह भी देखें :- Chawal ki kheti – धान, चावल की खेती कैसे करें?

प्याज की खेती

Pyaj ki kheti :- भारत में लगभग सभी राज्यों में प्याज की खेती की जाती है और किसान अधिक उत्पादन के लिए हर उपाय खोजता रहता है। इसके लिए इसमें आपको कम कीमत में प्याज की खेती का जैविक तरीका पता चलेगा। भारतीय बाजारों में साल भर प्याज की मांग के साथ, किसान प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) के नवीनतम तरीकों से अधिक लाभ कमा सकता है।

यह भी देखें :- Makka ki kheti – मक्का की खेती कैसे करें

Pyaj ki kheti kese karen? all info.

Pyaj ki kheti :- आइए जानते हैं कब और कैसे करें प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) और प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) की पूरी जानकारी और बात करते है प्याज की नर्सरी से प्याज मंडी तक का सफर :-

Pyaj ki kheti

1. पौधे की तैयारी

Pyaj ki kheti :- प्याज की नर्सरी तैयार करने से पहले यह तय करना होता है कि प्याज रवि सीजन के लिए बढ़ रहा है या खरीफ की फसल के लिए।

नर्सरी के लिए प्याज के बीज के लिए प्रति एकड़ 3 से 3.5 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है। या एक हेक्टेयर के लिए 8 से 9 किलो प्याज के बीज की जरूरत होती है।

2. खेती के लिए – जलवायु और मिटटी

Pyaj ki kheti :- जलवायु की बात करें तो इस खेती के लिए न ज्यादा ठंड और न ही ज्यादा गर्म मौसम। लेकिन जब प्याज का कंद पकने की अवस्था में हो तो उसका तापमान 30 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड होना जरूरी है।

अगर इसकी खेती के लिए मिट्टी की बात करें तो प्याज की खेती पीली मिट्टी, दोमट मिट्टी और अच्छी जल निकासी वाली भूमि में करें। वैसे भारत के लगभग सभी राज्यों में इसकी सफलतापूर्वक खेती की जा सकती है।

3. प्याज की खेती का समय

किसान प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) दो समय पर कर सकता है, एक रावी के मौसम में और दूसरी खरीद के मौसम में। खरीफ सीजन में प्याज की बेहतर खेती के लिए किसान अगस्त-सितंबर-अक्टूबर के पहले सप्ताह में प्याज की रोपाई कर सकता है.

अगर किसान रबी सीजन में प्याज की बेहतर खेती करना चाहता है तो उसके लिए जनवरी से फरवरी तक प्याज की रोपाई कर सकता है. रवि सीजन में प्याज की खेती के लिए यह सबसे अच्छा समय है।

4. प्याज के पौधे की दुरी

Pyaj ki kheti :- प्याज की खेती के लिए पौधे से पौधे की दूरी 8 से 10 सेमी रखनी चाहिए। और पंक्ति से पंक्ति की दूरी 8 सेमी पर्याप्त है।

5. प्याज के लिए सिचाई

प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) के लिए ड्रिप सिंचाई विधि और नाली/बिस्तर विधि से सिंचाई की जा सकती है, दोनों प्रकार से किसान उन्नत फसल ले सकता है।

सिंचाई की बात करें तो देश के कई राज्यों में प्याज की पौध लगाने से पहले एक बार पानी देते हैं और कई राज्यों में प्याज की पौध लगाने के बाद सिंचाई की जाती है।

6. प्याज की खेती के लिए खाद

Pyaj ki kheti :- प्याज की खेती में खाद की बात करें तो जहां तक हो सके जैविक खाद का प्रयोग करें। और अगर किसान रासायनिक खाद को भी शामिल करना चाहता है तो सिंगल सुपर फास्फेट, डीएपी, यूरिया, पका हुआ गोबर खाद डालकर रोटावर की मदद से खेत को अच्छी तरह से करना होगा, 2 – 3 मिट्टी का उलटफेर करना होगा किया हुआ।

बुवाई से लगभग 15 दिन पूर्व पकी हुई गोबर की खाद को खेत में हल या कल्टीवेटर की सहायता से डालकर मिट्टी को पलटा जा सकता है। तैयार खेत में 25-30 टन प्रति हेक्टेयर की दर से।

7. खरपतवार नाशक या नियंत्रण

Pyaj ki kheti :- प्याज की खेती में खरपतवार नियंत्रण के लिए मजदूरों की मदद से खेत में अनावश्यक खरपतवारों को हटाया जा सकता है और दूसरा रासायनिक दवाओं का उपयोग करके। यदि किसान मजदूरों की सहायता से खर-पतवार हटाता है तो मिट्टी को पूरी फसल में से दो बार म्यान से हटा देना चाहिए।

इसी के साथ यदि रासायनिक दवा का प्रयोग करते देखा जाए तो किसान अदामा डेकेल हर्बिकेड का छिड़काव कर सकते हैं। नोट प्रयोग करने से पहले खेत में सिंचाई करें क्योंकि प्रयोग करने से पहले खेत में नमी होना बहुत जरूरी है।

8. फसल की कटाई

Pyaj ki kheti :- जब प्याज की फसल पीली होकर मुड़ने लगे यानि फसल की आखिरी अवस्था शुरू हो जाए तो प्याज को उखाड़ देना चाहिए। प्याज की खेती के समय से 15 दिन पहले सिंचाई बंद कर देनी चाहिए। इसे 10 से 15 दिनों के लिए खेत में खुला छोड़ देना चाहिए ताकि यह अच्छी तरह सूख जाए। ऐसा इसलिए क्योंकि प्याज का भंडारण करते समय किसी भी प्रकार की बीमारी, कंद जैसी कोई अन्य समस्या नहीं होनी चाहिए।

प्याज की खेती कौन से महीने में की जाती है?

Pyaj ki kheti :- प्याज की नर्सरी तैयार करने से पहले यह तय करना होता है कि प्याज रवि सीजन के लिए बढ़ रहा है या खरीफ की फसल के लिए।

प्याज की खेती कितने दिनों में की जाती है?

Pyaj ki kheti :- यदि किसान बीज बोकर सीधी बुवाई करता है तो फसल 120 से 140 दिन में तैयार हो जाती है, जबकि पौध नर्सरी से लगाई जाती है तो प्याज की फसल 60 से 90 दिन में पूरी तरह तैयार हो जाती है।

प्याज के बीज कैसे बोए जाते हैं?

Pyaj ki kheti :- नर्सरी के लिए प्याज के बीज के लिए प्रति एकड़ 3 से 3.5 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है। या एक हेक्टेयर के लिए 8 से 9 किलो प्याज के बीज की जरूरत होती है।

यह भी देखें :- सरसो की खेती कैसे करें? बुआई से कटाई तक

अंतिम शब्द

Pyaj ki kheti :- किसान भाइयो, आपको इस पोस्ट में मेने बताया है की प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) किस प्रकार की जाती है और उसकी पूरी जानकारी आपको बताई है अगर हमारी जानकारी आपको पसंद आयी तो कमेंट करे। इस पोस्ट को अपने दोस्तों को भी शेयर करें ताकि उनको भी प्याज की खेती(Pyaj ki kheti) के बारे में जानकारी मिले

धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.