पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा – फायदे और घरेलू उपाय

पेट साफ करने की दवा :-आज आपको इस पोस्ट में बताएंगे की पेट साफ करने की दवा कौनसी है? और इसके बारे में पूरी जानकारी आपको देंगे तथा आपको पेट साथ करने के घरेलू उपाय या कब्ज सही करने के नुक्से या घरेलू तरीको के बारे में जानकारी देंगे | तो चलिए आपको बताते है पेट साफ करने की दवा कौनसी है?

stomach clearing medicine

पेट साफ – in Hindi

शरीर की कई गंभीर बीमारियों का एक कारण पेट की सफाई न करना भी होता है। बदलती जीवनशैली में यह समस्या आम है और यह सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। इसका सबसे अहम कारण गलत खान-पान, पानी की कमी, खाने के समय में बदलाव आदि हैं। वहीं, पेट की ठीक से सफाई न करने से पेट में जलन, गैस और एसिडिटी जैसी समस्याएं पीछे नहीं रहती हैं |

अगर आपके साथ भी ऐसा है तो यह लेख आपकी सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है। स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम आपको पेट साफ करने की दवा या ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं, जिनसे आपको जल्दी आराम मिल सकता है। आइए सबसे पहले जानते हैं कि अगर पेट साफ है तो इसके क्या फायदे हो सकते हैं।

पेट साफ करने की दवा – विशेष जानकारी

हां, शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए कोलन सफाई को एक अच्छा तरीका माना जा सकता है। इसके अलावा यह कई अन्य शारीरिक समस्याओं जैसे कब्ज, अपच, मोटापा और उच्च रक्तचाप में भी फायदेमंद हो सकता है।

पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए?

पेट साफ़ करने के फायदे

लेख के इस भाग में आइए जानते हैं कि पेट साफ करने से क्या-क्या फायदे होते हैं।

1). शारीरिक समस्याओं से बचाव:

पेट की सफाई ठीक से हो तो पेट दर्द, जलन, खट्टी डकारें आना, सिर दर्द, कब्ज और गैस जैसी समस्याओं से निजात मिल सकती है। वहीं अगर आप अपने पेट को लेकर लापरवाह रहेंगे तो कई बीमारियां शरीर में प्रवेश कर सकती हैं।

2). मजबूत पाचन तंत्र:

पाचन तंत्र को मजबूत रखने के लिए जरूरी है कि पेट साफ रहे, नहीं तो शरीर को उचित पोषण नहीं मिल पाएगा। एक स्वस्थ पाचन तंत्र भोजन के सेवन और उत्सर्जन की सुचारू प्रक्रिया में मदद करता है।

3). हेल्दी रूटीन:

कहते हैं पेट साफ रहेगा तो पूरा दिन हेल्दी गुजरेगा. जातक कोई भी कार्य पूरे उत्साह के साथ करेगा। साथ ही आप कई तरह की खाने-पीने की चीजों का भी लुत्फ उठा पाएंगे।

4). काम पर एकाग्रता:

अगर पेट साफ नहीं है, घर हो या ऑफिस, तो काम पर ध्यान देना मुश्किल हो सकता है। गैस और पेट दर्द के कारण शरीर सुस्त हो सकता है। वहीं अगर पेट साफ रहेगा तो आप अपने काम पर पूरा ध्यान लगा पाएंगे।

5). ऊर्जा का बढ़ाना:

पेट को ठीक से साफ करने का मतलब है कि पाचन तंत्र मजबूत है। मल और मूत्र के उचित निस्तारण से शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, जिससे शरीर में ऊर्जा का प्रवाह तेज हो सकता है।

BAL ka SI Matrak बल का SI मात्रक क्या है?

पेट साफ करने की दवा और घरेलू उपाय

मन में यह सवाल आ सकता है कि घर पर पेट की सफाई कैसे करें? तो हम आपको बता दें कि घर पर ही कुछ आसान उपायों से पेट को साफ किया जा सकता है। नीचे हम पेट साफ करने के घरेलू उपाय बता रहे हैं-

पेट साफ करने के 10 घरेलू उपाय

अब आप जानिए पेट साफ करने के 10 आसान घरेलू उपाय | जिसके कारन आपको इस सवाल का जवाब मिल जाएगा की पेट साफ करने की दवा कौनसी है? तो जानिये :-

1). गुनगुना पानी

सामग्री :

  • एक गिलास गुनगुना पानी

कैसे इस्तेमाल करे:

  • रोज सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुना पानी पिएं।

यह कैसे लाभदायक है?

रोजाना गुनगुना पानी पीने से पेट साफ करने का काम हो सकता है। इस विषय पर हुए शोध से पता चला है कि गर्म पानी के नियमित सेवन से पाचन शक्ति में वृद्धि हो सकती है। इसके अलावा यह शरीर से गंदगी को साफ कर इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में भी मददगार हो सकता है। शोध में यह भी बताया गया है कि गर्म पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त, गर्म पानी आंतों में खाद्य पदार्थों को तेजी से तोड़ने में मदद कर सकता है, जिससे उन्हें पचाना आसान हो जाता है।

2). शहद और नींबू

सामग्री :

  • आधा चम्मच नींबू का रस
  • 1 या 2 चम्मच शहद
  • एक चुटकी नमक
  • 1 गिलास गुनगुना पानी

कैसे इस्तेमाल करे:

  • एक गिलास गुनगुने पानी में आधा चम्मच नींबू का रस मिलाएं।
  • इस मिश्रण में नमक और शहद डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • इस मिश्रण का सेवन रोजाना सुबह के समय किया जा सकता है।

यह कैसे लाभदायक है?

नींबू में कई तरह के गुण होते हैं, जो पेट को साफ करने में मददगार हो सकते हैं। शोध के अनुसार नींबू में पाया जाने वाला एसिड पेट से मल साफ करने में मददगार हो सकता है। यह कब्ज की समस्या को दूर करने का भी काम कर सकता है। इसके अलावा शोध में इस बात का भी जिक्र है कि नींबू का इस्तेमाल इसमें पाए जाने वाले विटामिन सी और फ्लेवोनॉयड्स के कारण डिटॉक्सीफिकेशन के लिए भी किया जा सकता है। साथ ही, आंतों के जीवाणु संतुलन को बनाए रखने के लिए शहद का उपयोग किया जा सकता है, जो उचित पाचन को बढ़ावा दे सकता है।

3). अजवाइन

कैसे इस्तेमाल करे:

  • ऊपर दी गई सामग्री को अच्छी तरह मिला लें।
  • इस मिश्रण को रोज सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ लें।
  • आप चाहें तो भोजन के तुरंत बाद थोड़ी मात्रा में अजवायन भी ले सकते हैं।

यह कैसे लाभदायक है?

पेट की समस्याओं और पेट के कीड़ों को दूर करने के लिए अजवाइन का सेवन फायदेमंद हो सकता है। इस विषय पर शोध से पता चला है कि अजवाइन में कृमिनाशक गुण पाए जाते हैं, इसलिए यह आंतों में रहने वाले परजीवियों को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, इसका उपयोग पाचन एंजाइमों की गतिविधि को बढ़ाने का काम कर सकता है, जो उचित पाचन में मदद कर सकता है।

4). सेब

सामग्री :

  • दिन में कम से कम एक सेब

कैसे इस्तेमाल करे:

  • सेब को सीधे या अन्य फलों के साथ फ्रूट सलाद बनाकर भी खाया जा सकता है।
  • आप सेब के रस को निकालकर भी इसका सेवन कर सकते हैं।

यह कैसे लाभदायक है?

सेब का उपयोग पेट और पाचन तंत्र की सफाई के लिए किया जा सकता है। यह पॉलीफेनोल्स और पेक्टिन के साथ-साथ फाइबर की अच्छी मात्रा में समृद्ध है। ये पोषक तत्व आंत माइक्रोबायोटा प्रणाली को बेहतर बनाने, मल के मार्ग को सुगम बनाने और कब्ज का इलाज करने में सहायक हो सकते हैं।

5). दही

सामग्री :

  • दही (एक छोटी कटोरी)

कैसे इस्तेमाल करे:

  • दही का सीधे सेवन किया जा सकता है
  • भोजन के साथ ले सकते हैं।

यह कैसे लाभदायक है?

दही का इस्तेमाल पेट को साफ करने में मददगार हो सकता है। एक शोध के अनुसार दही के सेवन से आंत के माइक्रोबायोटा को बेहतर बनाया जा सकता है। इसमें लैक्टिक एसिड भी होता है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (पेट और आंतों से संबंधित) के कार्य को बेहतर बनाने में सहायक हो सकता है। साथ ही दही का सेवन कब्ज और डायरिया की समस्या को दूर कर पाचन क्षमता को बढ़ाने में फायदेमंद हो सकता है (7)। दही का रोजाना सेवन शरीर में प्रोबायोटिक्स के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है, जो पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है।

6). सेब का सिरका

सामग्री :

  • सेब के टुकड़े (जार का एक तिहाई)
  • दो चम्मच चीनी

कैसे इस्तेमाल करे:

  • सेब के टुकड़ों को एक जार (1 लीटर) में डालें।
  • अब एक कप पानी में चीनी घोलकर एक जार में डाल दें।
  • जार को ढककर 3-5 सप्ताह के लिए छोड़ दें।
  • इसके बाद घोल को कपड़े की सहायता से अच्छी तरह छान लें।
  • अब जार को साफ करके उसमें वापस घोल डालें और 3-4 हफ्ते के लिए छोड़ दें।
  • एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर को गर्म पानी में घोलकर सोने से पहले पी लें। इस प्रक्रिया को तब तक जारी रखें जब तक समस्या ठीक न हो जाए।

यह कैसे लाभदायक है?

ऐप्पल साइडर सिरका पाचन तंत्र को मजबूत रखने और आंतों को साफ करने के लिए एक प्रभावी बृहदान्त्र शुद्ध हो सकता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कर सकता है। शोध के अनुसार सेब के सिरके का उपयोग शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में भी सहायक हो सकता है।

7). कच्ची सब्जी का रस

सामग्री :

  • आवश्यकता अनुसार कच्ची सब्जी (गाजर, चुकंदर या पालक)

कैसे इस्तेमाल करे:

  • कच्ची सब्जियों को साफ पानी में धोकर छोटे छोटे टुकड़ों में काट लें।
  • अब जूसर की सहायता से इनका रस निकाल लें।
  • इन सब्जियों का एक कप जूस रोजाना लिया जा सकता है।

यह कैसे लाभदायक है?

आंत माइक्रोबायोटा मानव स्वास्थ्य और अच्छे पाचन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। साथ ही, फलों और सब्जियों से प्राप्त पॉलीफेनोल्स, ओलिगोसेकेराइड्स, फाइबर और नाइट्रेट्स जैसे आवश्यक पोषक तत्वों में प्रीबायोटिक प्रभाव दिखाया गया है, जो आंत माइक्रोबायोटा फ़ंक्शन में फायदेमंद हो सकता है। वहीं, हरी सब्जियां (जैसे गाजर, चुकंदर या पालक) फाइबर के अच्छे स्रोत हैं और फाइबर कब्ज जैसी समस्याओं से राहत दिलाकर पाचन प्रक्रिया को आसान बनाने में मदद कर सकता है।

8). तुलसी

कैसे इस्तेमाल करे:

  • तुलसी के पत्ते (10-15) सुबह खाली पेट चबा सकते हैं।
  • आप तुलसी के रस (आधा चम्मच) में थोड़ा सा शहद (1 चम्मच) मिलाकर ले सकते हैं।
  • आप एक गिलास गर्म पानी में 5-6 तुलसी के पत्ते पी सकते हैं।

यह कैसे लाभदायक है?

तुलसी का इस्तेमाल कई तरह से किया जाता है। किचन के साथ-साथ आयुर्वेद में भी इसका खास स्थान है। यह पेट को साफ करने और लीवर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। शोध के अनुसार तुलसी में फेनोलिक यौगिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। ये गुण शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में फायदेमंद हो सकते हैं (19) (20)।

9). नारियल पानी

सामग्री :

  • 1 गिलास नारियल पानी

कैसे इस्तेमाल करे:

  • रोजाना एक गिलास नारियल पानी काफी है।

यह कैसे लाभदायक है?

नारियल पानी बहुत फायदेमंद होता है, यह इम्यून सिस्टम को मजबूत कर पेट को शांत रख सकता है। साथ ही यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने का काम भी कर सकता है। नारियल पानी फाइबर, प्रोटीन और विटामिन जैसे कई पोषक तत्वों के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। यह शरीर को डिटॉक्सीफाई करने के साथ-साथ पाचन तंत्र को भी साफ करने में मदद कर सकता है।

10). मेथी बीज

सामग्री :

  • 1 छोटा चम्मच मेथी दाना
  • थोड़ा सा गुड़

कैसे इस्तेमाल करे:

  • सबसे पहले एक पैन में मेथी दानों को अच्छे से भून लें।
  • इसके बाद गुड़ को मिलाकर सेवन किया जा सकता है।

यह कैसे लाभदायक है?

मेथी का उपयोग न केवल व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जा सकता है, बल्कि स्वास्थ्य के लिए इसके लाभ भी देखे गए हैं। यह पेट की सफाई में मददगार हो सकता है। शोध में पाया गया है कि इसमें रेचक गुण होते हैं, जो मल को नरम करके बाहर निकालने में मदद कर सकते हैं। यह पेट की अन्य समस्याओं जैसे अपच और गैस में भी फायदेमंद हो सकता है।

कमर दर्द का इलाज – कारण, प्रकार, लक्षण

निष्कर्ष

आपको हमने इस पोस्ट में पेट साफ करने की दवा के बारे में जानकारी दी है | इसके अलावा  साफ काने के घरेलू उपाय और पेट साफ करने के फायदे भी बताये है | अगर हमारी यह पोस्ट आपको पसंद आयी तो अपने दोस्तों को भी शेयर करे तै उनको भी जानकारी मिले |

आपका दिन शुभ हो | सधन्यवाद

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.