पशु पालन (Pashu Palan) क्या होता हैं ? कैसे करें

Pashu Palan :- आज हम बात करेंगे की Pashu Palan किस प्रकार से करे और इसे करने के लिए क्या करना होता है तो आइये शुरू करते हैं।

Pashu Palan
Pashu Palan

पशु पालन (Pashu Palan)

ख़ास तौर पर भैंस और बकरी पालन के व्यवसाय में, जहाँ आपको पशु का दूध व माँस बेच कर मुनाफा होता है। आपको अपने पशु की नस्ल का चुनाव काफ़ी ध्यान से करना चाहिए। हर नस्ल का पशु अच्छा एवं ज्यादा दूध नहीं दे सकता। इसलिए आप पशु की नस्ल चुनते समय सावधानी बरतें।

पशुपालन के रूप में बात करें भैंस पालन के बारें में तो भैंस पालन का काम कई बरसों पुराना है आज गावों में रहने वाला हर किसान भाई भैंस का पालन जरुर करता हैं. लेकिन भैंस के रखने मात्र से सम्पूर्ण जानकारी किसी को नही होती हैं. इसलिए पशुपालन के रूप में भैंस पालन का व्यवसाय करने के लिए पहले भैंस के बारें में सम्पूर्ण जानकारी होनी चाहिए. जिसमें पशुओं को होने वाली बीमारियाँ और उनकी नस्लों के बारें में पता होना चाहिए।

पशु पालन (Pashu Palan) बाड़े का निर्माण

जमीन के बाद बात करें जगह की स्थिति के बारें में तो जगह अच्छी तरह सुखी हुई और भुरभुरी होनी चाहिए. क्योंकि गीली मिट्टी में पशु को कई तरह की बीमारी हो सकती हैं. साथ ही पशु की दुग्ध उत्पादन क्षमता भी घट जाती है. जिससे भैंस पालन के व्यवसाय में हानि देखने को मिलती है. इसलिए बड़ी जगह पर भैंस पालन शुरू करने के लिए उसे ऊपर से ढककर बंद कर दें. और चारों तरफ से खुला रहने दें. ताकि गर्मियों के मौसम में पशुओं को अधिक गर्मी का सामना ना करना पड़े.भैंस पालन के लिए बाड़े का निर्माण मौसम के आधार पर करना चाहिए. बाड़े के निर्माण के दौरान बड़े का निर्माण इस तरह करें की सर्दियों के मौसम में उसे चारों तरफ से बंद किया जा सके और गर्मियों के मौसम में उसे आसानी से खोला का सके।

पशु पालन (Pashu Palan) में नस्ल

खासतौर पर भैंस और बकरी पालन के कारोबार में, जहां आप जानवर के दूध और मांस को बेचकर मुनाफा कमाते हैं। आपको अपने जानवर की नस्ल बहुत सावधानी से चुननी चाहिए। हर नस्ल का जानवर अच्छा और ज्यादा दूध नहीं दे सकता। इसलिए, आपको जानवर की नस्ल का चयन करते समय सावधान रहना चाहिए।

पशु को अच्छे पोषण वाला आहार

यदि आप भी पशुपालन व्यवसाय में शामिल होने की योजना बना रहे हैं, तो आपको यह समझना चाहिए कि यदि आप अपने पशुओं को अच्छा चारा और पानी पिलाते हैं, तो इससे न केवल उनका स्वास्थ्य अच्छा रहता है, बल्कि पशु की उत्पादक क्षमता भी कई गुना बढ़ जाती है। जाती है। पशुपालन करते समय आपको अपने पशु को उचित मात्रा में पौष्टिक आहार देना चाहिए, जिससे आपके पशु का स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा और आपको अधिक लाभ प्राप्त होगा।

यह भी पड़े :- पेट दर्द की Best दवाएं (Pet Dard Ki Medicine) कौनसी हैं

अच्छा मुनाफा होने पर ही पशु बेचें

अपने जानवर को बेचने के लिए सही समय की प्रतीक्षा करें। एक अच्छी नस्ल के जानवर को सही समय पर बहुत अच्छी कीमत पर बेचा जा सकता है। उदाहरण के लिए यदि आप बकरी पालन करते हैं तो बकरीद के समय अपनी बकरी को भी अच्छे लाभ पर बेच सकते हैं।

उत्पादों में मिलावट ना करें

यदि आप पशु दूध को बाजार में बेचना चाहते हैं तो आप बहुत अच्छा लाभ कमा सकते हैं। लेकिन अगर आप अपने पशु उत्पादों में पानी या कुछ और मिलाते हैं, तो यह आपके व्यवसाय के लिए हानिकारक हो सकता है। पशु उत्पादों में मिलावट से आपका मुनाफा तो बढ़ जाता है, लेकिन मिलावट होने पर आपके ग्राहक आपके उत्पादों को नापसंद करने लगेंगे और आपके खिलाफ शिकायतें भी हो सकती हैं।

यह भी पढ़े :-बकरी पालन (bakri palan) की शुरुआत कैसे करे ?

पशुपालन विभाग

1944 में पशुपालन विभाग का गठन किया गया था। उत्तर प्रदेश का पशुपालन विभाग पशुधन और कुक्कुट विकास, रोग नियंत्रण, चारा विकास और अन्य पशुपालन गतिविधियों, सामाजिक-आर्थिक उत्थान और ग्रामीण जनता की रोजगार पीढ़ियों के लिए जिम्मेदार है।

पशू पालन (Pashu Palan) में गाय की नस्ल

जब भी आप गाय पालन का व्यवसाय करने की सोचते हैं तो आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि कौन सी नस्ल की गाय सबसे ज्यादा दूध देती है। गाय के बछड़े की कौन सी नस्ल दूध पैदा करने के लिए तेजी से बढ़ती है या आप नर बछड़ों को कितना बेच सकते हैं, ये सभी बातें अच्छी तरह से जानी चाहिए। गाय को अपने शहर की जलवायु के अनुसार खरीदा जाना चाहिए ताकि वे आपके शहर की जलवायु को सहन कर सकें, इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने शहर से ही गाय खरीद लें। आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि स्थानीय स्तर पर किस नस्ल के दूध की अत्यधिक मांग है। हम आपको बताएंगे कि किस नस्ल की गाय ज्यादा दूध देती है।

गाय पालन का व्यवसाय कितनी गायों को करना चाहिए?

जब आप अकेले गाय पालन का व्यवसाय करने जा रहे हों तो शुरुआत में आपको केवल 2 से 3 गायों से ही व्यवसाय शुरू करना चाहिए, उसके बाद धीरे-धीरे आप गायों की संख्या बढ़ा सकते हैं। जब आपकी गायों की संख्या बढ़ जाएगी तो आपको हर 10 गायों के पीछे 1 सहायक की आवश्यकता होगी।

आशा आपको पूरी जानकारी मिली होगी धन्यवाद।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *