निम्बू से पथरी का इलाज कैसे करें? – Guidense.com

Nimbu se pathri ka ilaj :- नमस्कार दोस्तों, बात अगर पथरी की करें तो यह बीमारी आजकल आम हो गयी है और अब नयी पीढ़ी में बहुत ज्यादा देखने को मिल रही है, पथरी से कोई ज्यादा दिक्क्त तो नहीं होती है बल्कि रोगी को कठिन दर्द का सामना करना पड़ता है।

इसीलिए आज हम इस पोस्ट में आपको बताएंगे की निम्बू से भी पथरी का इलाज किया जा सकता है, निचे दिए गए लेख में आपको बताया गया है की निम्बू से पथरी का इलाज कैसे करें ?

Nimbu se pathri ka ilaj
Nimbu se pathri ka ilaj

पथरी क्या है ?

दोस्तों, आपको जानकारी होगी की गुर्दा रक्त को फिल्टर करता है और अपशिष्ट पदार्थ और पानी को अलग करता है और मूत्र बनाता है।

लेकिन जब अपशिष्ट पदार्थ की मात्रा अधिक होती है तो यह किडनी में जमा होकर स्टोन के ठोस पदार्थ का रूप ले लेता है। इसे किडनी/किडनी स्टोन कहते हैं।

भारत की लगभग 12% आबादी गुर्दे की पथरी से पीड़ित है। इनमें से लगभग 50% लोग गुर्दे की क्षति से प्रभावित होते हैं और अंततः अपनी जान गंवा देते हैं।

गुर्दे की पथरी कई प्रकार की होती है, जैसे – कैल्शियम ऑक्सालेट, कैल्शियम फॉस्फेट, इस्ट्रूव्हाइट स्टोन, यूरिक एसिड स्टोन आदि।

यह भी देखें :-

निम्बू से पथरी का इलाज

नींबू में मौजूद साइट्रेट दो तरह से पथरी के उत्पादन को रोकता है।

  1. पहला – इसमें मौजूद साइट्रेट मूत्र में कैल्शियम ऑक्सालेट और कैल्शियम फॉस्फेट के अतिसंतृप्ति को कम करता है। इसका मतलब है कि कैल्शियम या अन्य क्रिस्टल पेशाब में ज्यादा नहीं घुलते हैं।
  2. दूसरा – यह कैल्शियम ऑक्सालेट के क्रिस्टलीकरण को रोकता है, जिससे कि यह कठोर पदार्थ में न बदल जाए।

यह भी देखें :-

निम्बू से इलाज का कारण

दोस्तों आपको बता दें कि आर्थिक रूप से विकसित देशों में किडनी स्टोन से प्रभावित लगभग 70% मामलों में लोग कैल्शियम ऑक्सालेट या फॉस्फेट स्टोन से पीड़ित होते हैं।

एक शोध के अनुसार, नींबू का सेवन कैल्शियम स्टोन बनने की दर को काफी हद तक कम कर सकता है।

यह भी देखें :-

नोट :- यदि स्थिति गंभीर है और अधिक दर्द का कारण बनती है, तो डॉक्टर की सलाह पर उपचार लें। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो गुर्दे की विफलता हो सकती है।

किडनी की पथरी का निम्बू से इलाज

नींबू में साइट्रेट की मात्रा अधिक होती है, इसलिए यह नए पत्थरों को बनने नहीं देता है। वहीं इसे पीने से पेशाब का उत्पादन बढ़ जाता है, जिससे पथरी धीरे-धीरे पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाती है।

  • इसके लिए आपको अपने पानी का सेवन बढ़ाना होगा।
  • कम से कम 2.5 से 3 लीटर पानी पिएं ताकि आप 1.5 से 2 लीटर पेशाब का उत्पादन कर सकें।
  • जानकारों के मुताबिक आधा कप नींबू को 7 कप पानी में मिलाकर पीने से फायदा देखा जा सकता है।
  • टेस्ट के लिए चीनी मिला सकते हैं, लेकिन नमक न डालें।
  • यह एक लंबी प्रक्रिया है, इसलिए कुछ महीनों तक लगातार नींबू-पानी पीते रहें।
  • शरीर में पानी की कमी न होने दें।

यह भी देखें :-

किडनी स्टोन से बचने के उपाय

  1. किडनी स्टोन को बढ़ने से रोकने के लिए खूब पानी पिएं।
  2. सोडियम और मांस का सेवन न करें।
  3. अपने डॉक्टर से डाइट चार्ट बनाएं और जानें कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

यह भी देखें :-

निष्कर्ष :- भारत में लगभग 12% आबादी गुर्दे की पथरी से पीड़ित है। नींबू में मौजूद साइट्रेट पथरी के इलाज में बहुत फायदेमंद होता है। नींबू से पथरी का इलाज करने के लिए दिन में 2.5 से 3 लीटर पानी पिएं। एक कप नींबू को 7 कप पानी में मिलाकर पीने से लाभ होता है। पत्थरों से छुटकारा पाने में काफी समय लगेगा, इसलिए प्रक्रिया को कुछ महीनों तक जारी रखें। अगर आप किडनी स्टोन की गंभीर स्थिति में हैं तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार लेजर सर्जरी करवाएं।

यह भी देखें :-

अंतिम शब्द :- दोस्तों, आपको इस पोस्ट में हमने बताया है की निम्बू से पथरी का इलाज कैसे करें? अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें। धन्यवाद।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *