Murgi palan – मुर्गीपालन का काम कैसे करे?

Murgi palan :- नमस्कार किसान भाइयो, मुर्गीपालन कैसे करें? या मुर्गी पालन का काम कैसे करें? इन सवालों की बात करें तो यह पोस्ट पूरा पढ़े, क्योंकि इसमें आपको मुर्गीपालन(Murgi palan) की पूरी जानकारी मिल जायेगी।

इस पीएसटी के माध्यम से आपको मुर्गी पालन करने में आसानी होगी और मुर्गी पालन के व्यवसाय में आप अच्छी आमदन भी प्राप्त क्र सकते है, तो आओ शुरू करें मुर्गीपालन(Murgi palan) के बारे में :-

Murgi palan
Murgi palan

Murgi palan

मुर्गी पालन के व्यवसाय में बहुत अच्छा मुनाफा देखने को मिल रहा है क्योंकि आजकल सभी को अंडे की जरूरत होती है। अंडे में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है और डॉक्टर भी इसे खाने की सलाह देते हैं। अगर कोई अच्छी बॉडी बनाना चाहता है तो उसके लिए अंडा काफी बेहतर विकल्प है, इसके अलावा घरेलू नुस्खों में भी अंडे का इस्तेमाल किया जाता है।

दुनिया की बात करें तो भारत तीसरे नंबर पर अंडा उत्पादन और पांचवें नंबर पर चिकन उत्पादन के लिए जाना जाता है। अगर आप खुद पोल्ट्री फार्म का बिजनेस करते हैं तो देश में अंडे और चिकन की जरूरत भी पूरी हो जाती है और यह आपकी आमदनी का अच्छा जरिया भी बन जाता है।

यह भी देखें :- मछली पालन की सही जानकारी

मुर्गीपालन कैसे करें?

  • हमारे देश को इस समय पोल्ट्री और डेयरी फार्म की बहुत जरूरत है।
  • हमारे देश की आबादी के हिसाब से कोई उत्पादन नहीं हो रहा है।
  • सरकार पोल्ट्री फार्मों के लिए भी 0% ब्याज दर पर कर्ज दे रही है.
  • कुक्कुट पालन से लोगों में बेरोजगारी की समस्या कम होगी।
  • भारत में 130 करोड़ से अधिक लोग रहते हैं, इसलिए पोल्ट्री मांस और अंडे की खपत भी बहुत अधिक है।
  • कोई भी व्यक्ति मुर्गी पालन शुरू कर सकता है, इसके लिए शिक्षित होना जरूरी नहीं है।
  • अगर आप किसान हैं तो आपके लिए मुर्गे के लिए अनाज की व्यवस्था करना आसान हो जाएगा।

यह भी देखें :- बकरी पालन (bakri palan) की शुरुआत कैसे करे ?

मुर्गीपालन का स्थान

मुर्गी पालन व्यवसाय के लिए सबसे महत्वपूर्ण और सबसे अधिक निवेश एक जगह का चयन करना है। मुर्गी पालन बिना स्थाई जगह के नहीं हो सकता, इसलिए सबसे पहले आपको जगह की व्यवस्था करनी होगी। जगह कितनी बड़ी होनी चाहिए, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितनी मुर्गी पालना चाहते हैं।

चिकन को बीमारियों से बचाने के लिए जगह को साफ रखना बहुत जरूरी है। आप ग्रामीण क्षेत्र के किनारे पोल्ट्री फार्म शुरू कर सकते हैं क्योंकि यहां आपको कम पैसे में जगह मिलेगी और लोगों को काम करने के लिए भी।

बेहतर होगा कि आपका अपना फॉर्म हो क्योंकि आपको किसी भी समय रेंटल फॉर्म खाली करने के लिए कहा जा सकता है। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि खेत में पानी की समस्या न हो।

इसके साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि खेत के आसपास कोई जंगली जानवर न हो। अगर खेत के आसपास परिवहन की सुविधा हो और बाजार ज्यादा दूर न हो तो यह व्यापार के लिए बहुत अच्छा होगा।

मुर्गे की नस्ल

मुर्गी पालन के लिए आपको उच्च गुणवत्ता वाली मुर्गी की नस्ल की भी आवश्यकता होगी। मुर्गी की कई नस्लें होती हैं और उत्पादन के साथ-साथ उनका चयन भी इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस काम के लिए मुर्गी पालन कर रहे हैं। इसलिए अपनी जरूरत के हिसाब से मुर्गे की नस्ल का चुनाव करें।

अगर कोई अंडे के लिए मुर्गियां पालना(Murgi palan) चाहता है तो उसके लिए लेयर ब्रीड बेहतर होगी। यदि कोई मांस के लिए मुर्गी पालन करना चाहता है, तो ब्रायलर नस्ल चुनें। भारत में सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली 2 तरह की मुर्गे की नस्लें, आइए जानते हैं इनके बारे में।

  1. लेयर ब्रीड: अगर कोई अंडा कारोबार के लिए मुर्गी पालन करना चाहता है तो लेयर ब्रीड की तरफ जा सकता है. यह मुर्गी 5-6 महीने पूरे होने के बाद अंडे देना शुरू कर देती है और एक साल में 300 अंडे तक दे सकती है। इस चिकन का इस्तेमाल मांस के लिए भी किया जा सकता है।
  2. ब्रायलर नस्ल: यदि आप मांस के लिए मुर्गी पालन करना चाहते हैं, तो ब्रायलर चिकन एक बहुत अच्छा विचार होगा। इस मुर्गे का मांस बहुत ही स्वादिष्ट और मुलायम होता है, जिस वजह से इसे काफी पसंद किया जाता है. 1.5 से 2 महीने में इसका वजन 2 से 2.5 किलो हो जाता है, यह भी एक कारण है कि इसे मीट के लिए ज्यादा पसंद किया जाता है।

यह भी देखें :- पशु पालन (Pashu Palan) क्या होता हैं ? कैसे करें

मुर्गो का आहार

मुर्गी ज्यादा से ज्यादा अंडे तभी देगी जब उसे अच्छी डाइट मिले। इसी तरह अगर कोई मांस के लिए मुर्गीपालन(Murgi palan) कर रहा है तो उसे भी मुर्गे की डाइट का ध्यान रखना चाहिए तभी मुर्गे की सेहत बेहतर होगी और वजन भी बढ़ेगा।

एक मुर्गे को बीमारियों से मुक्त रखने के लिए जितना हमें उनके पर्यावरण का ध्यान रखना है, उतना ही हमें उनके खान-पान का भी ध्यान रखना है। चिकन के लिए प्री-स्टार्टर, स्टार्टर और फिनिशर बाजार में उपलब्ध हैं जो उनके लिए प्रमुख माने जाते हैं।

इसके अलावा आप उन्हें मक्का, सूरजमुखी, तिल, मूंगफली, जौ और गेहूं आदि भी दे सकते हैं।

मुर्गियों की देखभाल

अच्छी वृद्धि और उत्पादन के लिए मुर्गियों की देखभाल बहुत जरूरी है। पोल्ट्री फार्म में स्वच्छ हवा होनी चाहिए ताकि दम घुटने की समस्या न हो। इसी तरह ध्यान रखें कि बारिश का पानी रूप में जमा न हो।

मुर्गियों को स्वच्छ पानी के साथ पौष्टिक आहार ही दें ताकि उनके विकास में कोई दिक्कत न हो। बीमारियों से बचने के लिए जरूरी टीकाकरण जरूर कराएं। यदि किसी मुर्गे में संक्रमण पाया जाता है तो उसे बाकी मुर्गियों से अलग कर देना चाहिए।

यह भी देखें :- Murgi palan – मुर्गीपालन कैसे करे?

व्यवसाय का बाजारीकरण

व्यवसाय को ठीक से चलाने के लिए मार्केटिंग की भी आवश्यकता होती है। यदि आप चाहते हैं कि लोगों को पता चले कि आपका चिकन का व्यवसाय है और आप इसे सुविधाजनक बनाते हैं, तभी लोग आपके पास आएंगे और आपका लाभ होगा।

इसलिए अपने आस-पास की दुकानों में पता करें कि अंडे और मांस कौन बेचता है, उनसे संपर्क करें और उन्हें अपनी सेवा के बारे में बताएं।

अगर दुकान आपके पोल्ट्री फार्म के पास होगी तो यह आपके लिए आसान होगा, नहीं तो आप परिवहन की मदद से अपने उत्पाद को एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकते हैं।

मुर्गीपालन पर कितना खर्चा आता है?

Murgi palan : लगभग 20,000 रूपये

मुर्गी का चूजा कितने दिन में तैयार होता है?

Murgi palan : मुर्गी का चूजा 21 दिन में तैयार होता है।

घर में मुर्गी पालने से क्या होता है?

Murgi palan : घर के रख-रखाव और भोजन पर कोई विशेष खर्च नहीं होता है। साथ ही, ग्रामीण परिवारों को उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन स्रोत उपलब्ध हो जाता है और कुछ मात्रा में मांस और अंडे बेचकर परिवार को अतिरिक्त आय प्राप्त होती है।

अंतिम शब्द

किसान भाइयो, आपको इस पोस्ट में बताया है की मुर्गीपालन कैसे करें? या मुर्गीपालन का काम कैसे करें? अगर आपको मुर्गीपालन(Murgi palan) के बारे में जानकारी अच्छी लगी तो कमेंट करें और अपने दोस्तों को भीयह पोस्ट शेयर करें ताकि उनको भी जानकारी मिले।

धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *