Meghwal cast- मेघवाल जाती क्या है। जानिए हिंदी में।

Meghwal cast:-

मेघवाल जाती की जनसंख्या

(उर्दू: میگھواڑ, सिंधी: ميگھواڙ) लोग मुख्य रूप से उत्तर-पश्चिम भारत में रहते हैं, पाकिस्तान में कुछ आबादी के साथ।  2008 में, उनकी कुल जनसंख्या 28,07,000 आंकी गई थी, जिनमें से 2760000 भारत में रहते थे।  इनमें से वे 659000 मारवाड़ी, 6630000 हिंदी, 230000 डोगरी, 175000 पंजाबी और कई अन्य क्षेत्रीय भाषाएँ बोलते हैं।

मेघवाल जाति के प्रमुख देवता

कांश हिंदू धर्म से हैं, ऋषि मेघ, कबीर, रामदेवजी और गोसाई जी उनके प्रमुख देवता हैं।  मेघवंश की उत्पत्ति राजऋषि वृत्रा या मेघ ऋषि से हुई है।  सिंधु सभ्यता के अवशेष (मेघ ऋषि के देवता मिले) भी मेघो से मिलते हैं।

मेघवाल जाती के प्राचीन शहर

हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, कालीबंगा (हनुमानगढ़), राखीगढ़ी, रोपड़, शेखर (सिंध), नौसरो (बलूचिस्तान), मेघद (मेहरगढ़ बलूचिस्तान) आदि मेघवंश के प्राचीन शहर हुआ करते थे।  3300 ईसा पूर्व से 1700 ईसा पूर्व तक सिंध घाटी में बादलों की बहुतायत थी।

मेघवाल जाती के कार्य

उनका मुख्य साधन ऊँट-पित्त और बैल-पित्त होता।एक ‘अनुसूचित जाति’ के रूप में, उनका पारंपरिक व्यवसाय बुनाई रहा है।

मेघवाल जाती की केटेगिरी

आपको बता दे की मेघवाल जाति एससी (SC) में आती है। जिसे आम भाषा में हम अन्य पिछड़ा वर्ग भी कह सकते है |

मेघवाल जाती का इतिहासिक चिन्ह

मौर्य काल के दौरान, मेघा वंश के चेदि राजाओं ने कलिंग पर शासन किया था।  वे अपने नाम के आगे महामेघवाहन जोड़ते थे और अपने को महामेघवंश का मानते थे।  [१३] कलिंग के राजा खारवेल ने मगध के पुष्यमित्र को हराया और दक्षिण भारतीय (वर्तमान तमिलनाडु) क्षेत्रों पर विजय प्राप्त की।  कलिंग के राजाओं ने जैन धर्म का पालन किया।  [१४] मौर्यों के पतन के बाद, मेघा वंश के राजाओं ने अपनी शक्ति और स्वतंत्रता वापस पा ली।  चेदि, वत्स, मत्स्य आदि के शासकों को मेघ कहा जाता था।  गुप्त वंश के उदय के समय कौशाम्बी एक स्वतंत्र राज्य था।  इसका शासक मेघराज मेघवंश का था और बौद्ध धर्म का अनुयायी था।

मेघवाल जाती का पौराणिक संकेतः-

भारतीय पौराणिक कथाओं में राज ऋषि वृत्र धार्मिक प्रमुख था और वह सप्त सिंधु क्षेत्र का राजा भी था। समस्त भारत पर शासन करने वाले नागवंशियों का वह पूर्वज था। नागवंशी अपने व्यवहार, शैली, योग्यता और उनकी गुणवत्ता में ईश्वरीय गुणों के लिए जाने जाते थे। वास्तुकला के वे विशेषज्ञ थे। वे नाग या अजगर की पूजा करते थे। मेघवालों को हिरण्य कश्यप, प्रह्लाद, हिरण्याक्ष, विरोचन, राजा महाबली (मावेली), बाण आदि के साथ भी जोड़ा जाता है।

मेघवाल जाति का दर्जाः-

कई कश्मीरी मुसलमान, जो अविभाजित पंजाब और गुजरात राज्यों के मैदानों में आकर बसे और मेघों की भाँति बुनकर थे, ब्राह्मणों के वंशज हैं। मेघों के रीति-रिवाज ब्राह्मणों के रीति-रिवाजों से मिलते हैं। ‘मेघ’ शब्द इस समुदाय से जुड़े किसी विशेष कार्य का संकेत नहीं करता जैसा कि कुछ अन्य समुदायों के मामले में होता था। राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात आदि राज्यों में इन्हें अन्य पिछड़ी जातियों के रूप में वर्गीकृत किया गया है। अर्थात् वे भारत की ऐसी जातियों में शामिल हैं जिन्हें भारतीय संविधान की अनुसूची में निर्दिष्ट किया गया और कुछ विशेष प्रबंध किए गए ताकि वे जातिगत पूर्वाग्रहों के कारण उत्पन्न प्रतिकूल प्रभावों से उबर सकें. हिंदू उनके साथ हिंदुओं के रूप में वैसा व्यवहार नहीं करते जैसा वे हिंदू दायरे के अन्य हिंदुओं के साथ करते हैं। मेघों में यह सोच है कि उन्हें राजनीतिक प्रयोजन से हिंदुओं में गिना जाता है।

 

मेघवाल जाती की जीवन शैलीः-

मेघवंशियों का पेशा कृषि और बुनाई था। वे वर्ष में दो फसलें लेते थे। शेष समय वे अन्य संबंद्ध गतिविधियों में व्यस्त रहते थे। राजस्थान के देहाती इलाके में अभी भी इस समुदाय के कई लोग अभी भी छोटी बस्तियों में रहते हैं। उनके आवास गारे की ईंट से बनी गोलाकार झोपडियाँ हैं जिन पर रंगीन ज्यामितीय डिजाइन चित्रित होते हैं और जिन्हें विस्तृत जड़ाऊ दर्पण कार्य से सजाया गया होता है। बीते समय में मेघवाल समुदाय का मुख्य व्यवसाय कृषि श्रम था, बुनाई, विशेष रूप से खादी और काष्ठकार्य था और ये अभी भी उनके मुख्य व्यवसायों में हैं। महिलाएँ अपने कढ़ाई के काम के लिए प्रसिद्ध हैं और ऊन तथा सूती कपड़े की बढ़िया बुनकर हैं।

मेघवंशियों में से कुछ राजस्थान के गांवों से मुंबई जैसे बड़े शहरों चले गए हैं। सन् 1936 में बी.एच मेहता, शोधकर्ता ने एक अध्ययन में कहा कि गाँव के मनहूस जीवन से बचने के लिए उनमें से अधिकतर शहरों में गए और महसूस किया कि शहर में भीड़ और अस्वास्थ्यकर परिस्थितियों के बावजूद उनके जीवन में सुधार हुआ है। आज मेघवालों में शिक्षितों की संख्या बढ़ी है और सरकारी नौकरियाँ प्राप्त कर रहे हैं। पंजाब में विशेषकर अमृतसर, जालंधर और लुधियाना जैसे शहरों में वे खेल, हौजरी, शल्य-चिकित्सा उपकरणों और धातुओं से वस्तुओं का उत्पादन करने वाले कारखानों में मजदूरी कर रहे हैं। उनमें से कुछ का अपना स्वयं का व्यवसाय या लघु उद्योग है। जीवन यापन के लिए छोटा व्यापार और सेवा इकाइयाँ उनका प्रमुख सहारा है। जम्मू-कश्मीर में भूमि सुधारों के सफल कार्यान्वयन के बाद उनमें से कई छोटे किसान बन गए। पाकिस्तान से भारत में आने के बाद मेघों को भी अलवर ;राजस्थानद्ध में बंजर भूमि में दी गई। बाबू गोपी चंद ने उन्हें इस प्रक्रिया में बहुत सहायता की। यह अब उपजाऊ भूमि है।

उनके प्रधान भोजन में चावल, गेहूं और मक्का शामिल है और दालों में मूंग, उड़द और चना. वे शाकाहारी नहीं हैं। जम्मू में एक मेघ धार्मिक नेता भगता साध (केरन वाले) के नेतृत्व में एक बहुत बड़ा मेघ समूह शाकाहारी बना। पारंपरिक मेघवाल समाज में महिलाओं का दर्जा कमतर है। परिवारों के बीच बातचीत के माध्यम से यौवन से पहले ही विवाह तय कर दिए जाते हैं। शादी के बाद पत्नी पति के घर में आ जाती है। प्रसव के समय वह मायके में जाती है। पिता द्वारा बच्चों का उत्तर दायित्व लेने और पत्नी को मुआवजा देने के बाद तलाक की अनुमति देने की परंपरा है। किसी बात के लिए नापसंद व्यक्ति का हुक्का-पानी बंद करने की एक सामाजिक बुराई मेघों में है। इसे तुच्छ मामलों में भी इस्तेमाल किया जाता है। इससे मेघ महिलाओं के लिए सामाजिक कठिनाइयाँ बढ़ी हैं।

मेघवाल जाती का धर्मः-

मेघवालों के प्रारंभिक इतिहास या उनके धर्म के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध है। संकेत मिलते हैं कि मेघ शिवऔर नाग (ड्रैगन के उपासक थे) मेघवाल राजा बली को भगवान के रूप में मानते हैं और उनकी वापसी के लिए प्रार्थना करते हैं। कई सदियों से केरल में यही प्रार्थना ओणम त्योहार का वृहद् रूप धारण कर चुकी है। वे एकनास्तिक और समतावादी ऋषि चार्वाक के भी मानने वाले थे। आर्य चार्वाक के विरोधी थे। दबाव जारी रहा और चार्वाक धर्म का पूरा साहित्य जला दिया गया। इस बात का प्रमाण मिलता है कि 13वीं शताब्दी में कई मेघवाल इस्लामकी शिया निजारी शाखा के अनुयायी बन गए और कि निजारी विश्वास के संकेत उनके अनुष्ठानों और मिथकों में मिलते हैं। अधिकांश मेघों को अब हिंदू माना जाता है, हालांकि कुछ इस्लाम या ईसाई धर्म जैसे अन्य धर्मों के भी अनुयायी हैं।
मध्यकालीन हिंदू पुनर्जागरण, जिसे भक्ति काल भी कहा जाता है, के दौरान राजस्थान के एक मेघवाल कर्ता राम महाराज, मेघवालों के आध्यात्मिक गुरु बने। कहा जाता है कि 19 वीं सदी के दौरान मेघ आम तौर पर कबीरपंथी थे जो संतमत के संस्थापक संत सत्गुरु कबीर के अनुयायी थे। आज कई मेघवाल संतमत के अनुयायी हैं जो कच्चे रूप से जुड़े धार्मिक नेताओं का समूह है और जिनकी शिक्षाओं की विशेषता एक आंतरिक, एक दिव्य सिद्धांत के प्रति प्रेम भक्ति  और समतावाद है, जो हिंदू जाति व्यवस्था पर  आधारित गुणात्मक भेद और हिंदू तथा मुसलमानों के बीच गुणात्मक भेद के विरु( है। वर्ष 1910 तक, स्यालकोट के लगभग 36000 मेघ आर्य समाजी बन गए थे, परंतु चंगुल को पहचानने के बाद सन् 1925 में वे ‘आद धर्म सोसाइटी’ में शामिल हो गए जो ऋषिरविदास, कबीर और नामदेव को अपना आराध्य मानती थी। भारत के एक सुधारवादी फकीर और राधास्वामी मत के एक गुरु बाबा फकीर चंद ने अपनी जगह सत्गुरू के रूप में काम करने के लिए भगत मुंशी राम को मनोनीत किया जो मेघ समुदाय से थे।
राजस्थान में इनके मुख्य आराध्य बाबा रामदेवजी हैं जिनकी वेदवापूनम (अगस्त – सितम्बर) के दौरान पूजा की जाती है। मेघवाल  धार्मिक नेता गोकुलदास ने अपनी वर्ष 1982 की पुस्तक ‘मेघवाल इतिहास’, जो मेघवालों के लिए सम्मान और उनकी सामाजिक स्थिति में सुधार का प्रयास है और जो मेघवाल समुदाय के इतिहास का पुनर्निर्माण करती है, में दावा किया है कि स्वामी रामदेव स्वयं मेघवाल थे। गांव के मंदिरों में चामुंडा माता की प्रतिदिन पूजा की जाती है। विवाह के अवसर पर बंकरमाता को पूजा जाता है। डालीबाई एक मेघवाल देवी है जिसकी पूजा रामदेव के साथ-साथ की जाती है। भारत के जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हिमाचल, हरियाणा राज्यों में पूर्वज पूजा (एक प्रकार का श्राद्ध) की जाती है। जम्मू-कश्मीर में डेरे-डेरियों पर पूर्वजों की वार्षिक पूजा प्रचलित है। कुछ मेघवार पीर पिथोरो की पूजा करते हैं जिसका मंदिर मीरपुर खास के पास पिथोरो गांव में है। केरन के बाबा भगता साध मेघों के धार्मिक नेता और आराध्य पुरुष थे जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में मेघ समुदाय के आध्यात्मिक कल्याण के लिए कार्य किया। बाबा मनमोहन दास ने बाबा भगता साध के उत्तराधिकारी बाबा जगदीश जी महाराज के निधन के बाद गुरु का स्थान ले लिया।

मेघवाल जाती के प्रमुख लोगः-

पूज्य सेवा दास जी महाराज जो कि स्वामी गोकुल दास जी महाराज के परम शिष्य हैं जिन्होंने मेघवंश इतिहास नामक ऐतिहासिक ग्रंथ लिखकर मेघवंश/मेघवाल समाज को उसकी पहचान दी और सेवा दास जी महाराज राजस्थान की प्रथम विधानसभा (1952 से 57) के सदस्य भी रहे है तथा आप तीर्थ राज पुष्कर में स्थापित राष्ट्रीय स्तर की कार्यकारिणी जो अखिल भारतीय मेघवंश महासभा के नाम से संचालित है के अध्यक्ष भी रहे हैं तथा अजमेर पालबीछला के रामदेव जी के मंदिर की कार्यकारिणी बलाई महासभा के अध्यक्ष (1954) भी रहे हैं। 23/3/2013 के पूर्व विधायक संघ के होली स्नेह मिलन समारोह में मा. मुख्य मंत्री अशोक गहलोत ने सम्मानित किया।

कैलाश चन्द्र मेघवाल, राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष अर्जुन राम मेघवाल, सांसद, बीकानेर (राजस्थान) निहालचन्द, केन्द्रीय राज्य मंत्री भारत सरकार फकिर भाइ वाघेला 13 बार गुजरात के सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री बने। जो अभि भि सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री हे। मिल्खी राम भगत पंजाब राज्य के सभी अनुसूचित जातियों के बीच पहले थे जिन्हें पंजाब सिविल सेवा (पीसीएस) के पहले बैच में चयनित किया गया। उन्होंने मजिस्ट्रेट और अन्य प्रशासनिक पदों पर कार्य किया और हंसराज, आईएएस और मास्टर दौलतराम के साथ मिल कर मेघों को अनुसूचित जाति में शामिल कराने के लिए काम किया। सुश्री सुमन भगत जम्मू-कश्मीर सरकार में स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री के स्तर तक पहुँचीं चूनी लाल भगत पहले मेघ थे जो पंजाब विधान सभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए।

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा, सुश्री स्नेह लता कुमार भगत पंजाब के मेघों में से पहली महिला हैं जो सीधे आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारी बनीं। वे तब प्रकाश में आईं जब उन्होंने चेन्नई में अखिल भारतीय सिविल सेवा प्रतियोगिता के दौरान तैराकी स्पर्धाओं में दो रजत पदक जीते। सुश्री विमला भगत पहली मेघ थीं जिन्हें भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्नत किया गया। वे हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग की अध्यक्ष बनी। स्वतंत्रता सेनानी श्री धनपत राय कल्ला कालेरा बास चूरू में पैदा हुए जो एक मेघवाल थे भंवर लाल मेघवाल राजस्थान के शिक्षा मंत्री बने। सुरेंदर वलसई मेघवार एक प्रसिद्ध पत्रकार और मीडिया प्रकोष्ठ, बिलावल हाउस, पाकिस्तान के मीडिया समन्वयक हैं। वे पाकिस्तान में मेघवार समुदाय के भीतर सबसे प्रमुख और प्रभावशाली व्यक्ति हैं। वे शिड्यूल्ड कास्ट फेडरेशन आॅफ पाकिस्तान के संस्थापक अध्यक्ष हैं। राम निवास मेहरा, ओरियाना, तहसील रिया बड़ी (नागौर) राजस्थान। मांगी लाल को विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार (1998) और श्रम श्री पुरस्कार (2003ल् मिला। प्रो॰ राजकुमार, राष्ट्रीय अध्यक्ष, भगत महासभा ने भारत में मेघों की एकता के लिए बहुत कार्य किया है। उन्होंने पंजाब, हरियाणा, जम्मू कश्मीर, राजस्थान आदि में भगत महासभा की राज्य इकाइयों को स्थापित किया है। वे मेघों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए सामाजिक नेटवर्किंग चला रहे हैं।

प्राधानाध्यापक सियाराम तालेपा, भीम राव अम्बेडकर समाज कल्याण संघ अध्यक्ष, मेडता तहसील, नागोर, राजस्थान। राजस्थान की महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती मंजू मेघवाल बनी। (2012) कृष्ण बारूपाल मेघवाल राजस्थान शिक्षक संघ अम्बेडकर के प्रदेश उपाध्यक्ष बने श्री मोतीलाल जी मेघवाल पूर्व विधायक रेवदर (सिरोही), समाज को जागरूक किया और उन्नति की और बढ़ाया। झालामंड निवासी ठेकेदार जोराराम मेहरा जोधपुर के राजस्थान मेघवाल परिषद के जिला अध्यक्ष बने

मेघवाल जाती का इतिहास

अलेक्ज़ेंडर कनिंघम ने अपनी 1871 में छपी पुस्तक ‘सर्वे ऑफ इंडिया’ में प्रतिपादित किया कि आर्यों के आगमन से पूर्व मेघ असीरिया से पंजाब में आए और सप्त सिंधु (सात नदियों की भूमि) पर बस गए। आर्यों के दबाव के तहत, वे संभवतः पाषाण युग (1400-1200 वर्ष ईसा पूर्व) के दौरान महाराष्ट्र और विंध्याचल क्षेत्र और बाद में बिहार और उड़ीसा में भी बसे। .वे सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित हैं।वे एक टी  मेघ के वंशज होने का दावा करते हैं, जो अपनी प्रार्थना से बादलों (मेघों) से बारिश ला सकता था। ‘मेघवार’ शब्द संस्कृत शब्द ‘मेघ’ से निकला है जिसका अर्थ है बादल और बारिश और ‘वार’ का अर्थ है ‘युद्ध’, एक ‘समूह’, ‘बेटा’ और ‘बच्चे’ (संस्कृत: वार:).अतः ‘मेघवाल’ और ‘मेघवार’ शब्दशः एक लोग हैं, जो मेघवंश के हैं।यह भी कहा जाता है कि मेघ जम्मू और कश्मीर के पर्वतीय क्षेत्रों में रहते थे जहाँ बादलों की गतिविधि बहुत होती है। वहाँ रहने वाले लोगों को स्वाभाविक ही (मेघ, बादल) नाम दे दिया गया। मिरासियों (पारंपरिक लोक कलाकार) द्वारा सुनाई जाने वाली लोक-कथाओं में मेघों को सूर्यवंश से जोड़ा जाता है जिस वंश से भगवान राम हुए हैं।

यह भी देखें

अंतिम शब्द

आज मैंने इस आर्टिकल में मेघवालों के बारे में पूरी जानकारी दी है यह जानकारी पढ़कर आपको कैसा लगा यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरूर करें ताकि उन्हें भी पता चले और हमें कमेंट करके बताएं कि यह आपको जानकारी कैसी लगी

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *