Mal me khoon aane ke gharelu upay – मल में खून आने का इलाज

mal me khun aane ke gharelu upaay :-मल में खून आने का लक्षण होने पर मल काला हो जाता है मानो तवा के काले रंग की तरह हो। यह पाचन संबंधित समस्या से जुड़ा हो सकता है। सामन्य तौर पर कभी थोड़े काले रंग के मल हो जाते है। लेकिन रोजाना रक्त आना मल के रंग को बदल देता है।

mal me khun aane ke gharelu upaay

मल में खून आने का कारण

मल में खून आने का कारण- मल में खून आने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। यह कारण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति पर अलग-अलग होते हैं। कुछ मामलों में यह कारण सामान्य हो सकते हैं तो कुछ मामलों में यह गंभीर समस्या का संकेत भी हो सकते हैं।
निचे दिए गए देखें 
  • आंतों में इन्फेक्शन
  • पेट में अल्सर
  • इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज
  • बवासीर
  • एनल फिशर

मल में खून आने के लक्षण

मल में खून आने के लक्षण- मल में खून आने का लक्षण होने पर मल काला हो जाता है मानो तवा के काले रंग की तरह हो। यह पाचन संबंधित समस्या से जुड़ा हो सकता है। सामन्य तौर पर कभी थोड़े काले रंग के मल हो जाते है। लेकिन रोजाना रक्त आना मल के रंग को बदल देता है। इसके अलावा पाचन रसो के संपर्क में आने से टार जैसा मल हो सकता है। आपको कुछ अन्य लक्षण भी नजर आ सकते है।
 
  • थकान महसूस होना।
  • ब्लड प्रेशर लौ होना।
  • दिल की गति तेज होना।
  • सांस लेने में कठिनाई होना।
लैट्रिन करते समय ब्लड आना किस बिमारी के लछण होते हैं?

बवासीर एक ऐसी बीमारी है जिसके बारे में लोग खुलकर बात नहीं करते हैं। इस बीमारी के बारे में किसी को बताने में लोग शर्म और झिझक महसूस होती है। बवासीर को हेमरॉइड या पाइल्स के नाम से भी जाना जाता है। मल के साथ खून निकलना शर्म नहीं बल्कि चिंता की बात है क्योंकि यह बवासीर या कैंसर कुछ भी हो सकता है।

मल में खून आने के घरेलू उपाय

मल में खून आने के घरेलू उपाय- मल में खून आने समस्या को रोकने के लिए पहले कारणों को समझना पड़ता है की खून बहाव क्यों हो रहा है। चिकिस्तक निम्न तरीके से मल में खून आने की समस्या का उपचार करते है।

  • अगर अल्सर के कारण पेट में रक्तश्राव हो रहा है तो चिकिस्तक एसिड को कम करने वाली कुछ दवाओं का सुझाव दे सकते है। यह दवाएं सूजन को कम करने में सहायता करते है।
  • अगर पेट में पोलिप्स के कारण मल में खून आ रहा है तो इसका उपचार करवाना जरुरी होता है क्योंकि पोलिप्स कैंसर की स्तिथि को पैदा कर सकता है। कुछ जटिल मामले में इसे हटा दिया जाता है। पोलिप्स को हटाने के लिए कीमोथेरेपी और रेडिएशन थेरेपी का उपयोग किया जाता है।
  • अगर आपके मल में अत्यधिक खून निकल गया है तो एनीमिया का जोखिम पैदा कर सकता है। ऐसे मामले में मरीज को खून दिया जाता है ताकि खून शरीर में मौजूद रहे।
  • अगर खून बहने की समस्या अपने आप ठीक नहीं हो रही है तो चिकिस्तक अन्य जांच कर सकते है जैसे की कोलोनोस्कोपी और एंडोस्कोपी। कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) एक ऐसी प्रक्रिया है जो बड़ी आंत या गूदे के अंदर किसी तरह के खराबी व अन्य समस्या का पता लगाने के लिए परीक्षण किया जाता है। (और
  • मल में रक्त आने की समस्या शुरुवाती है तो चिंता करने की जरुरत नहीं है। केवल आपको सही उपचार चाहिए। चिकिस्तक आपको कुछ दवाएं और कुछ प्रोटीन सप्लीमेंट्स लेने की सलाह दे सकते है। इसके अलावा खाद्य पदार्थ में बदलाव के सुझाव दे सकते है।

नसों में कमजोरी कैसे दूर करें

दर्द के बिना मल में खून

दर्द के बिना मल में खून- मल में खून आना आमतौर पर बवासीर की वजह से होता है। ज्यादातर मामलों में यह दर्द रहित होता है और खून का रंग चमकीला लाल होता है। यह मरीज के लिए बहुत खतरनाक होता है। फिशर की वजह से भी ऐसा हो सक ता है।

मल्‍टीविटामिन के फायदे और नुकसान

खून रोकने के उपाय

खून रोकने के उपाय-

  1. हल्दी हल्दी घाव को जल्दी भरने का काम करती है। जहां पर चोट लगी हो वहां पर हल्दी लगा लें ये ब्लड को रोकने में मदद करता है।
  2. बर्फ खून को राकने के लिए बर्फ सबसे आसान तरीका है। बर्फ लगाने से भी खून बहना बंद होता है।
  3. टी-बैग्स चाय में टैनिन तत्व होता है, जो ब्लड क्लॉट बनाता है।
  4. फिटकरी फिटकरी खून को रोकने में काफी मदद करती है।

अल्ट्रासाउंड में लड़के की पहचान

पेट में दर्द खून आना

पेट में दर्द खून आना- अभय वर्मा ने बताया कि आंतों संबंधी बीमारी का कारण मैदा, फास्ट-फूड और कोल्ड ड्रिंक आदि हो सकता है। इस बीमारी से बचने के लिए लोगों को मौसमी ताजे फलों का सेवन करना चाहिए। रेशेदार फल अधिक फायदेमंद हैं। हरी सब्जियां को सेवन भी लाभकारी है।

 

डाबर शिलाजीत कैप्सूल खाने के फायदे व नुकसान?

मल में खून आने की दवा

मल में खून आने की दवा- मल में खून आने से बचाव निम्न तरीके से कर सकते है।

  • मल में खून आने की समस्या से बचाव करने के लिए व्यक्ति को अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए। इसके अलावा अपने आहार में फाइबरयुक्त आहार शामिल करे। फाइबर मल को नरम बनाते है। फाइबर युक्त में अनाज, चोकर, फलिया, चुकंदर आदि।
  • अगर आपको फाइबर आहार के बारे में और जानकारी चाहिए तो अपने चिकिस्तक से परामर्श करे। चिकिस्तक आपको निम्न सुझाव दे सकते है।

अंडे खाने के फायदे- Egg Health Benefits

अंतिम शब्द :- आज  आपको इस पोस्ट में बताया है की मल में खून आने के घरेलू उपाय के बारे में आपको इस पोस्ट में विस्तार से बताया है यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताये 

 

 
 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.