मान जाति का इतिहास : मान (Maan) शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई?

Maan Caste क्या है, यहाँ आप मान जाति के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। इस लेख में आपको मान जाति के बारे में हिंदी में जानकारी मिलेंगी।

Maan Caste

मान जाति क्या है? इसकी कैटेगरी, धर्म, जनजाति की जनसँख्या और रोचक इतिहास के बारे में जानकारी पढ़ने को मिलेगी आपको इस लेख में।

अगर बात करें मान जाति की तो मान जाति कौनसी कैटेगरी में आती है? मान जाति के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें।

जाति का नाममान जाति
मान जाति की कैटेगरीअन्य पिछड़ा वर्ग
मान जाति का धर्महिन्दू और सिख

मान जाति

मान भारत और पाकिस्तान में राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश में पाए जाने वाले जाटों का एक गोत्र है। मान को भाटी जाटों की एक शाखा माना जाता है। वे सूर्यवंशी क्षत्रिय हैं।

इन लोगों के साथ भक्त पूरनमल के पिता शंखपति का विवाह हुआ था। दिलीप सिंह अहलावत ने इसे मध्य एशिया में सत्तारूढ़ जाट वंशों में से एक के रूप में उल्लेख किया है।

उन्हें गुजरात में मनार कहा जाता है। मैन/मंगी/मानकी कबीले अफगानिस्तान में पाए जाते हैं। वे चौहान संघ के समर्थक थे। मनार गुजरात में अंजना जाटों का एक गोत्र है।

मान गोत्र की उत्पत्ति- मान गोत्र का नाम राजा कोद खोखर के पुत्र मान के नाम पर पड़ा।

मान जाति का इतिहास

एक इतिहासकार ने लिखा है कि उदयपुर रियासत में कोड खोखर नाम का एक सरदार रहता था। चौहान संघ से जुड़े थे। किसी कारण से वे दादरेडे नामक गाँव में बस गए, जिसके बाद वे मल्लूकोट में बस गए। जानकारी के मुताबिक पल्लूकोट और दादरेडा दोनों मारवाड़ में हैं।

इसी कोड खोखर से मान गोत्र का निर्माण हुआ था। कोड खोखर के चार बच्चे थे मान, सुहाग, देसा और दलाल। इन्हीं से जाट समाज के चारों गोत्रों की सन्तान मन जाट कहलाती थी, जबकि सुहाग की सन्तान सुहाग गोत्र की जाट कहलाती थी, इसके अलावा देसा से देसवाल और दलाल से दलाल जाट गोत्र का निर्माण हुआ।

इतिहास पर नजर डालें तो पता चलता है कि कोड खोखर के पुत्र मान चौहान संघ में थे। चौहान संघ के अधिकांश लोग जाट गोत्र के थे। वह सुहाग गोत्र के प्रवर्तक सुहाग के बहनोई थे।

लेकिन किसी कारणवश मान चौहान ने संघ छोड़ दिया और जाट संघ में शामिल हो गए। जिला हिसार में राजथल और जिला करनाल में बालेग्राम मान गोत्र के गांव हैं। अन्य प्रांतों के कई गांवों में मान गोत्र के जाट हैं।

मान जाति की जनसख्याँ

मान हिंदू जाट – 12587 (जिले – शाहपुर, लायलपुर, रियासत लोहारू, कलसिया, पटियाला, जींद, नाभा)।

मान सिख जाट – 37482 (जिले – अंबाला, लायलपुर, रियासत पटियाला, जींद, नाभा)।

मान मुस्लिम जाट – 5261 (जिला – अंबाला, लायलपुर, रियासत जींद)।

अन्य जातियों के बारे में जानकारी
परिहार गोत्रधालीवाल जाति
तिवारी जातितरड़ जाति
ढिल्लों जातिडूडी जाति
झिंझर जातिज्याणी जाति
जाखड़ जातिजायसवाल जाति

हम उम्मीद करते है की आपको मान जाति के बारे में सारी जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी, हमने मान जाति के बारे में पूरी जानकारी दी है और मान जाति का इतिहास और मान जाति की जनसँख्या के बारे में भी आपको जानकारी दी है।

Maan Caste की जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी, अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में बता सकते है। धन्यवाद – आपका दिन शुभ हो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *