Lohasava Syrup Uses in Hindi

Lohasava Syrup का उपयोग क्या है, यहाँ आप Patanjali Lohasava Syrup के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। इस लेख में आप Lohasava Syrup के बारे में हिंदी में जानकारी मिलेंगी।

Lohasava Syrup Uses in Hindi

Lohasava की दवाई क्या है? इसके Uses, Benefits, Side Effects व Dosage के बारे में जानकारी पढ़ने को मिलेगा।

दवा के घटकBaidyanath Lohasava
निर्माताBaidyanath
विक्रेताAYURVEDANT PRIVATE LIMITED

जानिए Lohasava Syrup in Hindi की जानकारी, लाभ, फायदे, उपयोग, प्रयोग, कीमत, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, डोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां

What is Lohasava Syrups

लोहासवा सिरप क्या है– जैसा कि नाम से पता चलता है कि Patanjali Lohasava Syrup एक आयरन युक्त आयुर्वेदिक टॉनिक है। जिसमें आयरन की मात्रा बहुत ज्यादा रहती है। लोहासव सिरप किण्वन विधि द्वारा बनाया जाता है। इसमें 4% से 10% अल्कोहल भी होता है। लोहासव सिरप के लगातार सेवन से हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है, पाचन शक्ति मजबूत होती है, बवासीर जैसी समस्या भी दूर होती है।

आज हम इस लेख में लोहासव सिरप के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करेंगे। लोहासव सिरप के फायदे हुए हैं, इसके नुकसान हुए हैं, इसे कैसे लें, किन बीमारियों में फायदा होता है। आज हम ये सब जानने की कोशिश करेंगे।

Lohasava Syrup के घटक

Patanjali Lohasava Syrup में लोहा भस्म, हरी चिरका पीपल, हरड़, धया के फूल, सोंठ, काली मिर्च, बहेड़ा, अजवायन, नागरमोथा, चित्रकमूल की छाल, शहद और गुड आंवला, वैवडांग, मोठा, धातकी, विदंग, पानी आदि इसके मुख्य घटक हैं। . . लोहासव के इन घटकों का शास्त्रीय रूप से वर्णन किया गया है।

Lohasava Uses & Benefits

  • लोहासव गैस्ट्रिक आग को प्रज्वलित करता है, जिससे यह पाचन तंत्र के लिए बहुत अच्छा टॉनिक बन जाता है।
  • लोहासव सिरप के सेवन से वात और कफ नियंत्रित होता है।
  • यह टॉनिक पेट के कीड़ों को नष्ट करता है।
  • पीलिया और रक्ताल्पता में लोहासव सिरप लेने से लाभ होता है।
  • यह सिरप खून को साफ करता है।
  • शरीर की सभी प्रकार की सूजन को दूर करता है।
  • आयरन की पर्याप्त मात्रा होने के कारण यह टॉनिक हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है।
  • इस टॉनिक के सेवन से लीवर को नई ऊर्जा मिलती है, जिससे लीवर सुचारू रूप से कार्य करता है।
  • यह पाचन शक्ति को बढ़ाता है और चयापचय में सुधार करता है।
  • इस सिरप के सेवन से लीवर और तिल्ली को बहुत फायदा होता है।
  • इस सिरप का सेवन करने से बवासीर और कई चर्म रोगों में लाभ होता है।

Lohasava Side Effects

लोहासवा सिरप के साइड इफेक्ट– अगर हर सिरप के अपने फायदे हैं तो इसके साइड इफेक्ट भी हैं। सिरप के अधिक सेवन से कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं। ठीक उसी तरह लोहासव सिरप के सेवन के कुछ नुकसान भी हैं।

लेकिन अगर आप बिना डॉक्टर की सलाह के इसका सेवन करते हैं तो यह आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसके दुष्परिणामों के बारे में बात करते हुए –

  • इसके सेवन से आपके सीने में जलन हो सकती है।
  • इसके सेवन से आपके पेट में गैस भी बन सकती है।
  • लोहासव सिरप लेने से शरीर पर लाल रंग के दाने दिखने लगते हैं।
  • लोहासव सिरप के उपयोग से आपके शरीर पर चकत्ते भी दिखाई दे सकते हैं।

Lohasava Syrup की खुराक

पतंजलि लोहासव सिरप की खुराक– Patanjali Lohasava Syrup का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए, क्योंकि पतंजलि लोहासव सिरप की खुराक मरीज की उम्र, लिंग और स्थिति पर निर्भर करती है। पतंजलि लोहासव सिरप का उपयोग सुबह और शाम की खुराक में 10 मिमी से 20 मिमी तक किया जा सकता है। पतंजलि लोहासव सिरप को सूखी और ठंडी जगह पर और बच्चों की पहुंच से दूर रखें।

Lohasava Syrup कैसे काम करती है?

  • काली मिर्च एक जीवाणुरोधी पदार्थ है, जो खराब बैक्टीरिया के विकास को रोकता है और मुक्त कणों को खत्म करके ऑक्सीडेटिव तनाव से राहत देता है। काली मिर्च में एल्कलॉइड और ओलियोरेसिन जैसे तत्व होते हैं, जो भूख बढ़ाने का काम करते हैं। काली मिर्च से पेट और लीवर की खराब कार्यप्रणाली को सुधारने का काम पूरा किया जा सकता है।
  • चित्रक आंतों की शक्ति में सुधार करता है और पाचन की प्रक्रिया को तेज करता है। यह संचार प्रणाली को सक्रिय करके रक्त शोधक के रूप में भी कार्य करता है। यह बवासीर, अपच, अतिसार, जिगर का बढ़ना, तिल्ली का बढ़ना, पीलिया और मूत्र संबंधी कई समस्याओं में बहुत लाभदायक है।
  • दिल की बीमारियों से लड़ने में हरीतकी फायदेमंद हो सकती है। इसमें ऐसे गुण होते हैं जो श्वसन अंगों की सूजन को कम करके अस्थमा का इलाज करते हैं।
  • वैवडुंग एक ऐंटिफंगल यौगिक है, जो त्वचा संबंधी विकारों में लाभकारी होता है। यह खांसी जनित कृमि संक्रमण, एनोरेक्सिया और मधुमेह के लिए बहुत अच्छा है।
  • आंवला पाचन एंजाइमों की उत्तेजना को बढ़ाने में मदद करता है। आंवला में मूत्रवर्धक गुण होते हैं, जो मूत्र संबंधी कई समस्याओं में राहत प्रदान करते हैं। आंवला लीवर के स्वास्थ्य पर होने वाले जोखिम को कम करके लीवर की रक्षा करने में कारगर है।
  • शुद्ध लोहा रक्त निर्माण की प्रक्रिया में सुधार करके एनीमिया के कारण होने वाले रोगों के उपचार में सहायक होता है। किसी भी प्रकार के बुखार को ठीक कर सकता है। महिलाओं में होने वाले ल्यूकोरिया (सफेद पानी) की समस्या में भी आयरन काफी फायदेमंद साबित होता है।

Lohasava Syrup Price

पतंजलि लोहासव सिरप की भारत में कीमत– Patanjali Lohasava Syrup आपको भारत के किसी भी मेडिकल स्टोर, पतंजलि आयुर्वेद स्टोर में आसानी से मिल जाएगा और अगर उपलब्ध नहीं है तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके इसे ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इसकी कीमत की बात करें तो इसकी एक बोतल 450ml में आती है। . इसकी कीमत नीचे दी गई है-

  • Patanjali Lohasava Syrup 450ml – 85 रुपये

अन्य दवाइयों की जानकारी

Mucaine Gel SyrupCremaffin Plus Syrup
Aristozyme SyrupCypon Syrup
Neeri SyrupGrilinctus Syrup
Menohelp SyrupAlkasol Syrup
Zincovit SyrupCitralka Syrup

हम उम्मीद करते है की आपको Lohasava की दवाई के बारे में सारी जानकारी हिंदी में मिल गयी होगी, इस दवाई का उपयोग से पहले अपने निजी डॉक्टर से सलाह-मशवरा जरुर ले।

Lohasava के उपयोग, नुक्सान, फायदे” आपके लिए उपयोगी होगा, इसके साथ-साथ आपको Lohasava Syrup के बारे में जानकारी मिल गयी होगी, अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में बता सकते है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.