Letter Writing in hindi – पत्र लेखन क्या है पत्र के प्रकार और प्रारूप

Letter Writing in hindi– दोस्तों, आपको बता दे की पत्र लेखन एक कला है। एक सुंदर पत्र पाठक और श्रोता को मोहित कर लेता है। एक चिट्ठी में हमें कम शब्दों में बहुत कुछ कहना होता है। तो आओ बात करें पत्र लेखन के बारे में।

पत्र लिखते समय हमारी भाषा मुहावरेदार और दूसरों को प्रभावित करने वाली होनी चाहिए, इसलिए पत्र वह माध्यम है जिसके माध्यम से हम अपने संदेश, विचार और भावनाओं को उन लोगों तक पहुंचा सकते हैं, जिन तक हमारी आवाज नहीं पहुंच सकती।

Letter Writing in hindi

Letter Writing in hindi

Letter Writing in hindi– आपको पहले ही बताया जा चुका है कि पत्र लेखन एक कला है, इसलिए पत्र लिखते समय पत्र में सरल, सरल और सामान्य बोली जाने वाली भाषा का प्रयोग किया जाना चाहिए, ताकि पत्र प्राप्त करने वाला पत्र में व्यक्त भावों को अच्छी तरह समझ सके।

पत्र लेखन के माध्यम से हम अपनी भावनाओं और विचारों को व्यक्त कर सकते हैं। पत्रों के माध्यम से व्यक्ति अपने शब्दों को लिख सकता है और उन्हें दूसरों तक पहुंचा सकता है। जिन बातों को लोग कहने में झिझकते हैं, उन बातों को अक्षरों के माध्यम से आसानी से समझाया या कहा जा सकता है।

पत्र लेखन की आवश्यकता

दूर रहने वाले अपने रिश्तेदारों या दोस्तों के कौशल को जानने और उनके कौशल के बारे में सूचित करने के लिए पत्र लिखे जाते हैं। आजकल हमारे पास संचार के कई आधुनिक साधन हैं, जैसे टेलीफोन, मोबाइल फोन, ईमेल आदि।

प्रश्न उठता है कि पत्र-लेखन सीखना अभी भी क्यों आवश्यक है? पत्र लिखना न केवल महत्वपूर्ण है बल्कि बहुत महत्वपूर्ण भी है, फोन पर बातचीत आदि अस्थायी हैं, इसके विपरीत लिखित दस्तावेज एक स्थायी रूप लेते हैं। उदाहरण- जब आप स्कूल नहीं जा सकते हैं, तो आपको छुट्टी के लिए एक आवेदन लिखना होगा।

पत्र कितने प्रकार के होते है ?

Letter Writing in hindi– मुख्य रूप से अक्षरों को निम्नलिखित दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है –

औपचारिक पत्र(Formal letter)अनौपचारिक पत्र(informal letter)

औपचारिक और अनौपचारिक पत्र के बीच अंतर

  • औपचारिक पत्र –
    औपचारिक पत्र उन लोगों को लिखे जाते हैं जिनके साथ हमारा कोई व्यक्तिगत संबंध नहीं है। व्यवसाय से संबंधित पत्र, प्राचार्य को आवेदन, आवेदन पत्र, सरकारी विभागों को पत्र, संपादक को पत्र आदि औपचारिक पत्र कहलाते हैं। औपचारिक पत्रों की भाषा सरल और विनम्र होती है। ये पत्र केवल काम या किसी की अपनी समस्या के बारे में बात करते हैं।
  • अनौपचारिक पत्र –
    अनौपचारिक पत्र उन लोगों को लिखे जाते हैं जिनके साथ हमारा व्यक्तिगत संबंध होता है। किसी के परिवार के लोगों जैसे माता-पिता, भाई-बहन, रिश्तेदारों और दोस्तों को उनका हालचाल पूछने, आमंत्रित करने और सूचित करने आदि के लिए अनौपचारिक पत्र लिखे जाते हैं। इन पत्रों में भाषा के उपयोग में थोड़ी छूट दी जा सकती है। इन अक्षरों में शब्दों की संख्या असीमित हो सकती है क्योंकि इन अक्षरों में इधर-उधर की चीजें भी शामिल होती हैं।

Leave Application in hindi – छुट्टी के लिए आवेदन पत्र कैसे लिखें?

निष्कर्ष- दोस्तों, इस पोस्ट में हमने पत्र लेखन(Letter Writing in hindi) के बारे में जानकारी दी है अगर जानकारीं पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *