Lahsun ki kheti – लहसुन की खेती कैसे करें?

Lahsun ki kheti :- रामराम किसान भाइयो, लहसुन की खेती के बारे में बात करें तो आज आपको इस पोस्ट में बताएंगे की लहसुन की खेती कैसे करें? और लहसुन की खेती के बारे में पूरी जानकारी देंगे तो बने रहिये हमारे साथ अंत तक :-

Lahsun ki kheti
Lahsun ki kheti

Lahsun ki kheti

किसान भाइयो, लहसुन की खेती को अच्छी तरह से समझा जाए और नई तकनीक से किया जाए तो किसान कम लागत में लाखों की कमाई कर सकता है। सही समय पर सही फसल चुनकर आप अच्छी खेती कर सकते हैं, इसीलिए अब देश के युवा भी खेती के प्रति अपना झुकाव दिखा रहे हैं।

लहसुन की खेती सबसे अधिक लाभदायक फसलों में से एक मानी जाती है। लहसुन की खेती से सिर्फ एक महीने में लाखों की कमाई की जा सकती है।

लहसुन की खेती कैसे करें? लहसुन की खेती कब और कैसे करें, 1 बीघा जमीन पर इसकी खेती से कितनी आमदनी हो सकती है। लहसुन की कितनी किस्में हैं, लहसुन की खेती की जाती है तो आइए जानते हैं लहसुन की खेती से जुड़ी हर जानकारी के बारे में।

यह भी देखें :- Pyaj ki kheti – प्याज की खेती कैसे करें? Onion farming

लहसुन की खेती कब करें

देश में लहसुन का उपयोग चटनी, पाउडर, अचार और अन्य खाद्य उत्पाद बनाने के लिए किया जाता है। यही वजह है कि साल भर लहसुन की मांग रहती है। हालांकि इसकी खेती क्षेत्र के अनुकूल मौसम के अनुसार की जाती है।

उत्तर भारत क्षेत्र की बात करें तो यहां लहसुन अक्टूबर-नवंबर के महीने में बोया जाता है। जबकि पहाड़ी क्षेत्रों में बुवाई का समय मार्च-अप्रैल के महीने में होता है।

लहसुन की खेती देश के हर क्षेत्र में की जाती है, लेकिन उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब और मध्य प्रदेश का मौसम इसकी फसल के लिए अनुकूल माना गया है।

लहसुन की खेती के लिए जलवायु

लहसुन की खेती(Lahsun ki kheti) के लिए बहुत गर्म जलवायु उपयुक्त नहीं होती, थोड़ी ठंडी जलवायु इसकी खेती के लिए बेहतर मानी जाती है। इस फसल के लिए मिट्टी का सही चुनाव भी जरूरी है।

लहसुन की खेती(Lahsun ki kheti) दोमट या चिकनी मिट्टी में की जा सकती है, ये दोनों ही मिट्टी सबसे अच्छी होती है। ध्यान रहे कि दोनों मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों की मात्रा अधिक हो, यह लहसुन की खेती के लिए लाभकारी सिद्ध होगा।

अगर आप लहसुन की बिजाई करने जा रहे हैं तो जांच लें कि खेत में नमी तो नहीं है, ऐसी स्थिति में पहले खेत की जुताई जरूर कर लें।

यह भी देखें :- Aalu ki kheti – आलू की खेती कैसे करे?

लहसुन की खेती के लिए बुवाई

आप लहसुन की कलियों को समतल क्यारियों में, मेड़ों पर या नर्सरी में लगाकर इसकी खेती कर सकते हैं। नर्सरी में लहसुन की खेती(Lahsun ki kheti) बहुत लोकप्रिय नहीं है, ज्यादातर क्षेत्रों में इसकी खेती फ्लैट बेड और मेड़ पर ही की जाती है।

यदि आप समतल क्यारियों में लहसुन की खेती करते हैं, तो इसकी कलियाँ पंक्ति से पंक्ति में 10 सेमी और 7-8 सेमी अलग होनी चाहिए। पौधे से पौधे की दूरी पर पौधरोपण करना चाहिए।

यदि आप इसकी फसल को मेड़ों पर उगाना चाहते हैं, तो 40-45 सेमी चौड़ा बांध बनाएं, जिसके बीच सिंचाई और जल निकासी के लिए 30 सेमी. नाली बनाना सुनिश्चित करें। बुवाई के समय मेड़ों पर कलियों के बीच 10 सेमी. दूरी बनाकर रखनी चाहिए।

लहसुन की खेती के लिए सिंचाई

लहसुन की फसल(Lahsun ki kheti) के लिए समय पर सिंचाई आवश्यक है। यदि बुवाई के समय खेत में नमी न हो तो आप बुवाई के तुरंत बाद हल्की सिंचाई कर सकते हैं, जबकि यदि खेत में नमी हो तो बुवाई के 1 सप्ताह बाद सिंचाई शुरू कर दें। नमी के अनुसार सिंचाई करते रहें। जब लहसुन की फसल पक जाए तो टैब खोदने से 9-10 दिन पहले सिंचाई बंद कर दें।

यह भी देखें :- Lahsun ki kheti – लहसुन की खेती कैसे करें?

लहसुन की खेती में जैविक खाद

लहसुन की अच्छी फसल(Lahsun ki kheti) के लिए अच्छी खाद सबसे जरूरी है। जैविक खाद से अच्छी फसल प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप एक हेक्टेयर भूमि पर खेती कर रहे हैं तो मिट्टी में जल संरक्षण क्षमता बढ़ाने के लिए 250-300 क्विंटल सड़ी हुई गाय के गोबर को बुवाई से 10-15 दिन पहले मिट्टी में मिला दें।

इसके अलावा 80-100 किग्रा. नाइट्रोजन, 60-65 किग्रा। फास्फोरस और 80-90 किग्रा। पोटाश डालें।

लहसुन की फसल को खोदना

लहसुन की फसल(Lahsun ki kheti) कब खोदनी है, इसकी पत्तियों से जांच कर सकते हैं. जब पौधों की पत्तियाँ पीली पड़ने लगती हैं और गिरने लगती हैं, तो लहसुन की फसल की कटाई का यह सही समय है।

खुदाई पूरी होने के बाद आपको लहसुन को ऐसी जगह पर रखना चाहिए जहां धूप न हो। अपनी फसल को 7 दिनों तक छायादार स्थान पर रखें। इसके बाद कंदों से पत्तियाँ 2.5 सेमी. इसे छोड़ दें और काट लें।

लहसुन की खेती से कमाई

अगर हम एक बीघा जमीन पर लहसुन की खेती करते हैं तो आप 7-8 क्विंटल लहसुन का उत्पादन कर सकते हैं। अगर बाजार में लहसुन की कीमत 100-120 के आसपास है तो आप 70-75 हजार रुपये कमा सकते हैं.

लहसुन के बीजो की किसम

लहसुन की किस्में- एग्रीफाउंड व्हाइट, एग्रीफाउंड माउंटेन, यमुना व्हाइट-1 (जी-1), यमुना व्हाइट-2 (जी-50), यमुना व्हाइट-3, सोलन, ये सभी लहसुन की प्रमुख किस्में हैं।

लहसुन कितने दिन में तैयार होता है?

Lahsun ki kheti :- 150-160 दिनों में तैयार हो जाती है पैदावार 150-160 क्विन्टल प्रति हेक्टयर हो जाती है।

लहसुन की बुवाई कब और कैसे करें?

Lahsun ki kheti :- उत्तर भारत क्षेत्र की बात करें तो यहां लहसुन अक्टूबर-नवंबर के महीने में बोया जाता है। जबकि पहाड़ी क्षेत्रों में बुवाई का समय मार्च-अप्रैल के महीने में होता है।

2021 में लहसुन का क्या भाव रहेगा?

Lahsun ki kheti ka bhav :- 4045 सो ₹5000 तक

अंतिम शब्द

किसान भाइयो, आपको इस पोस्ट में हमने बताया है की लहसुन की खेती कैसे करें? अगर लहसुन की खेती(Lahsun ki kheti) के बारे में दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी तो अपने दोस्तों को भी शेयर करें, ताकि उनको भी जानकारी मिले।

धन्यवाद, जय जवान जय किसान।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *