Kurmi Caste – कुर्मी जाति का इतिहास और जनसंख्या

Kurmi Caste क्या है और कुर्मी जाति की उत्पत्ति कैसे हुई, इसके साथ साथ आपको कुर्मी जाति के इतिहास के बारे में भी बात करेंगे। Kurmi Caste के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए पोस्ट को पूरा पढ़ें-

Kurmi Caste

कुर्मी जाति क्या है?

Kurmi Caste– कुर्मी उत्तरी भारत में पूर्वी गंगा के मैदान से एक हिंदू किसान जाति है। कुर्मी को भारत की मुख्य कृषि जाति के रूप में जाना जाता है।

किसान का अर्थ है अन्नदाता, व्यक्ति चाहे कितना भी कमा ले, लेकिन वह भोजन के बिना नहीं रह सकता। किसान ही है जो सारे संसार का पेट भरता है। हम कह सकते हैं कि यह दुनिया किसानों के बिना नहीं चल सकती। कुर्मी जाति देश की कृषि जाति की प्रतिनिधि है। अधिकांश कुर्मी उत्तर भारत के पूर्वी गंगा के मैदान में पाए जाते हैं।

कुर्मी जाति(Kurmi Caste) के अधिकतर लोग पारंपरिक कृषि से जुड़े कार्यों से जुड़े हुए हैं। कुर्मी को हम कानबी, कुनबी, कुर्मी, कुनवी, कुर्मी आदि नामों से भी जानते हैं। ऐतिहासिक साक्ष्य इस तथ्य को प्रकट करते हैं कि कुर्मी जाति के पूर्वज उच्च कोटि के शुद्ध, पराक्रमी और बहादुर क्षत्रिय थे। आइए जानते हैं कुर्मी जाति का इतिहास, कुर्मी शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई।

कुर्मी जाति की कैटेगरी – Kurmi Caste

देश के अधिकांश राज्यों जैसे आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा आदि में कुर्मी ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग) के अंतर्गत आते हैं।

कुर्मी जाति का इतिहास

Kurmi Caste– ऐतिहासिक साक्ष्य इस तथ्य को प्रकट करते हैं कि कुर्मी जाति के पूर्वज शुद्ध, पराक्रमी और उच्च कोटि के बहादुर क्षत्रिय थे। कुर्मी जाति शुद्ध क्षत्रिय वर्ण की है, इसके अतिरिक्त और कुछ नहीं है। महर्षि कूर्म कुर्मी जाति के मूल पूर्वज क्षत्रिय थे। अतः उनके वंशजों के क्षत्रिय स्वयंसिद्ध हैं (छोटा नारदिया उपपुराण, चंद्रवंशी राजर्षि विवरण) कुर्मी-कु का अर्थ है पृथ्वी और उर्मि का अर्थ है गोद।

इस प्रकार कुर्मी शब्द का अर्थ है वह जो पृथ्वी की गोद में या पृथ्वी के पुत्र में रहता है। यह भी कहा गया है-भूमि मेरी मां है और मैं उसका बेटा। कूरम- कू का अर्थ है पृथ्वी और राम का अर्थ है पति या बल्लभ। इसलिए कुरम शब्द का अर्थ भूपति या पृथ्वीपति है जो क्षत्रिय शब्द का पर्याय है।

Nair Caste – नायर जाति की जनसख्यां और इतिहास
Baniya Caste – बनिया जाति का इतिहास, बनिया जाति सूची

कुर्मी जाति की उत्पत्ति – Kurmi Caste

कुर्मी की उत्पत्ति के बारे में 19वीं सदी के कई सिद्धांत हैं। जोगेंद्र नाथ भट्टाचार्य (1896) के अनुसार, यह शब्द एक प्राचीन भारतीय भाषा या संस्कृत के मिश्रित शब्द कृषि क्रिमी से लिया जा सकता है। [5] गुस्ताव सॉलोमन ओपर्ट (1893) का सिद्धांत यह भी मानता है कि इसे कृषि से प्राप्त किया जा सकता है। लिया जा सकता है।

Mahar Caste – महार जाति का व्यवसाय और इतिहास
Chamar Caste – चमार जाति का इतिहास और चमार रेजीमेंट

कुर्मी जाति की जनसंख्या – Kurmi Caste

कुर्मी मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, पंजाब और असम राज्यों में व्यापक रूप से पाए जाते हैं। पूरे देश में इनकी आबादी करीब 20 मिलियन है। कुर्मी दो प्रमुख राज्यों अर्थात् बिहार और उत्तर प्रदेश में 7.5% आबादी में 5% आबादी का गठन करते हैं।

Valmiki Caste – वाल्मीकि समाज की जनसंख्या और इतिहास
Bhangi Caste – भंगी जाति कैसे बनी और भंगी जाति के गोत्र

कुर्मी जाति की उपजाति – Kurmi Caste

सिंगौर, उमराव, चंद्राकर, गंगवार, कम्मा, कानबी, कापू, कटियार, कुलंबी, कुलवाड़ी, कुनबी, कुटुम्बी, नायडू, पटेल, रेड्डी, सचान, वर्मा और वोक्कालिगा सभी कुर्मी जाति के हैं।

Jatav Caste – जाटव जाति का इतिहास और अन्य जानकारी
Gupta Caste – गुप्ता जाति की उत्पत्ति और गुप्ता गोत्र लिस्ट

निष्कर्ष- दोस्तों, आपको इस लेख में कुर्मी जाति के बारे में जानकारी प्रदान की है जिसमे मुख्य रूप से कुर्मी जाति(Kurmi Caste) की उत्पत्ति, कुर्मी जाति(Kurmi Caste) का इतिहास और कुर्मी जाति की कैटेगरी इत्यादी है। अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें।

Kshatriya Caste – क्षत्रिय जाति की उत्पत्ति और सामाजिक स्थिति
Tyagi Caste – त्यागी जाति की उत्पत्ति – त्यागी जाति के गोत्र

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.