|

खुजली क्या है? खुजली की दवा, कारण और ईलाज | Khujalee kya hai?

Khujalee kya hai :- खुजली, हालांकि यह एक साधारण बीमारी है, लेकिन सच्चाई यह है कि जब भी किसी व्यक्ति को यह बीमारी होती है, तो वह व्यक्ति बीमार त्वचा को खरोंचते समय परेशान हो जाता है। खुजली के कई कारण हो सकते हैं। कई बार खुजली कई बीमारियों का लक्षण भी हो सकती है। क्या आप भी खुजली से परेशान हैं और खुजली का इलाज ढूंढ रहे हैं? तो इस पोस्ट में हम आपको खुजली की दवा पर चर्चा करेंगे :-

Khujalee kya hai

खुजली क्या है? Khujalee kya hai?

अब आपको बताएँगे की खुजली क्या है?(Khujalee kya hai?) कभी-कभी त्वचा की एलर्जी खुजली का कारण बनती है। इस स्थिति में केवल खरोंचने का आग्रह होता है। इसे एक प्रकार का चर्म रोग भी कहा जा सकता है।

खुजली शरीर के किसी एक हिस्से में, और पूरे शरीर में, या यहां तक कि शरीर के विभिन्न हिस्सों में भी हो सकती है। आमतौर पर खुजली की समस्या रूखी त्वचा में ज्यादा देखने को मिलती है। इसके अलावा यह गर्भावस्था में भी हो सकता है।

यह भी देखें :-  बुखार की सबसे अच्छी दवा कौन सी है? Best Medicine For Fever

खुजली क्यों होती है? खुजली के कारण|

खुजली कई कारणों की वजह से हो सकती है जैसे स्किन की समस्याएं, कुछ बीमारियां, नर्व डिजीज (तंत्रिका सम्बन्धी विकार), मानसिक रोग, और एलर्जिक रिएक्शंस। कभी-कभी कारण का पता नहीं चल पाता है।

  • स्किन की समस्याएं – स्किन से जुड़ी कुछ समस्याएं खुजली का कारण बन सकती हैं जैसे रूखी त्वचा, एक्जिमा (डर्मेटाइटिस), सोरायसिस, स्केबीज, परजीवी, जलना, घाव के निशान (स्कार), कीट का काटना और पित्ती।
  • आंतरिक रोग – पूरे शरीर में खुजली एक अंतर्निहित बीमारी का लक्षण हो सकती है, जैसे कि लिवर रोग, गुर्दे की बीमारी, एनीमिया, डायबिटीज, थायरॉयड रोग, मल्टीपल मायलोमा या लिम्फोमा।
  • तंत्रिका संबंधी विकार – उदाहरणों में मल्टीपल स्केलेरोसिस, नस दबना और शिंगल्स (हर्पीज ज़ोस्टर) शामिल हैं।
  • मानसिक रोग – उदाहरणों में चिंता, ओसीडी और डिप्रेशन शामिल हैं।
  • एलर्जिक प्रतिक्रिया – ऊन, केमिकल, साबुन और अन्य पदार्थ से एलर्जी हो सकती है जिसकी की वजह से खुजली हो सकती है। इसके अलावा, मादक पेन किलर (ओपिओइड) जैसी कुछ दवाएं खुजली का कारण बन सकती हैं।

यह भी देखें :- बिस्तर में लंबे समय तक के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक दवा 

खुजली की दवा और ईलाज |

खुजली से राहत पाने के लिए तुलसी का प्रयोग अपने शरीर पर करें। तुलसी के कुछ पत्तों को पीसकर नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा की मालिश करने से भी हैजा से राहत मिल सकती है। इस उपाय को करने से शरीर से फंगस को दूर करने में मदद मिल सकती है।

नीम का उपयोग कई स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने के लिए किया जाता है।

खुजली की दवा के 5 घरेलू उपाय |

1). बेकिंग सोडा और नींबू (Baking Soda and Lemon)

अगर आपके शरीर में खुजली की समस्या है तो सबसे पहले आप नहाने के लिए साफ पानी का इस्तेमाल करें, साथ ही आप पानी में एक चम्मच बेंट सोडा और कुछ चम्मच नींबू का रस भी मिला सकते हैं। इस घरेलू नुस्खे को हफ्ते में कम से कम 2 से 3 बार इस्तेमाल करें।

2). चंदन के उपयोग (Sandalwood)

आप चंदन का प्रयोग बहुत सी चीजों के लिए करते हैं, यह आयुर्वेद के रूप में प्रयोग किया जाता है। चंदन की सुगंध अद्भुत होती है, यह शरीर से खुजली की समस्या को दूर करती है और त्वचा के लिए भी लाभकारी मानी जाती है। साथ ही आप चाहें तो खुजली वाली जगह पर भी चंदन का लेप लगा सकते हैं।

3). तुलसी (Basil)

खुजली से राहत पाने के लिए अपने शरीर पर तुलसी का प्रयोग करें। तुलसी के कुछ पत्तों को पीसकर नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा की मालिश करने से भी हैजा से राहत मिल सकती है। इस उपाय को करने से शरीर से फंगस को दूर करने में मदद मिल सकती है।

4). नीम (Neem)

नीम का उपयोग कई स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने के लिए किया जाता है। ऐसे में आप खुलसी से राहत पाने के लिए नीम का इस्तेमाल कर सकते हैं। नीम के पत्तों को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाएं। यह न सिर्फ खुजली से राहत पाने का असरदार घरेलू उपाय हो सकता है बल्कि खुजली से छुटकारा पाने का एक प्राकृतिक तरीका भी है।

5). नारियल का तेल (Coconut Oil)

नारियल के तेल में ऐसे कई गुण होते हैं जो त्वचा को फायदा पहुंचा सकते हैं। खुजली से राहत पाने के लिए भी नारियल के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। नारियल तेल को त्वचा पर लगाने से त्वचा की नमी लंबे समय तक बनी रहती है। इससे राहत मिलती है।

अंतिम शब्द

इस पोस्ट में हमने आपको खुजली के बारे में बताया है | इसके अलावा खुजली का ईलाज और खुजली की दवा के बारे में भी चर्चा की है | अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया तो कमेंट करें | धन्यवाद | आपका दिन शुभ हो |

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *