|

कमर दर्द का इलाज – कारण, प्रकार, लक्षण – Guidense.com

Kamar dard ka ilaj :- नमस्कार दोस्तों, कमर दर्द की बात करें तो यह एक साधारण सी बीमारी है, आज हम कमर दर्द का कारण, लक्षण, प्रकार और कमर दर्द के इलाज के बारे में चर्चा करेंगे। तो आओ शुरू करते है कमर दर्द के बारें में :-

Kamar dard ka ilaj
कमर दर्द का इलाज

कमर दर्द क्या है?

आज का युवा कमर दर्द से काफी परेशान है। इनमें लड़के और लड़कियां दोनों शामिल हैं। इस पीठ दर्द के हर किसी के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। लेकिन सभी की जरूरत इस बात की है कि इस पीठ दर्द से जल्द से जल्द छुटकारा कैसे पाया जाए।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए ज्यादातर लोग अस्पतालों में जाने से परहेज कर रहे हैं। इसके कारण ऐसी समस्याएं होती हैं, जिनके उपचार के लिए हम घरेलू या जीवनशैली संबंधी उपाय अपना सकते हैं, उन्हीं के कारण आजकल हमारा उपचार अधिक हो रहा है।

घर पर बैठे रहने की वजह से जिस समस्या ने ज्यादातर लोगों को परेशान किया है वो है कमर दर्द।

यह भी देखें :-

कमर दर्द का कारण

कमर दर्द के मुख्य कारणों में जीवनशैली से जुड़ी कुछ खास बातें शामिल हैं, जो निचे दी गयी है :-

  1. बहुत मुलायम गद्दे पर सोना
  2. लंबे समय तक हाई हील्स पहनना
  3. बहुत अधिक वजन बढ़ना
  4. शरीर में कैल्शियम की कमी
  5. एक जगह पर घंटों रुकना
  6. शारीरिक गतिविधि की कमी
  7. व्यायाम न करें

यह भी देखें :-

कमर दर्द के कुछ सामान्य कारण

  • भारी वस्तुओं को बार-बार उठाना।
  • अचानक या झटके से उठना या बैठना।
  • गलत मुद्रा (ठीक से खड़े या बैठे नहीं)।
  • तनाव – मांसपेशियों में खिंचाव।
  • कोई चोट या दुर्घटना।

यह भी देखें :-

कमर दर्द के प्रकार

कमर दर्द को मुख्य रूप से चार भागों में बांटा जा सकता है। जिसके बारे में हम नीचे जानकारी दे रहे हैं।

  1. यांत्रिक – यह आमतौर पर रीढ़ की हड्डी के सिकुड़ने या क्षतिग्रस्त स्लिप डिस्क और विस्थापन जैसी समस्याओं के कारण हो सकता है।
  2. सूजन – यह दर्द पुराना होता है और रीढ़ की हड्डी में सूजन जैसी बीमारी के कारण भी हो सकता है।
  3. ऑन्कोलॉजिक – तंत्रिका क्षति या मज्जा कैंसर के कारण हो सकता है।
  4. संक्रामक – रीढ़ या डिस्क से जुड़े संक्रमण और रीढ़ में घाव के कारण पीठ दर्द हो सकता है।

यह भी देखें :-

कमर दर्द के लक्षण

नीचे जानिए हो सकते हैं कमर दर्द के लक्षण:-

  • पीठ या कमर दर्द शरीर के अन्य हिस्सों जैसे रीढ़ की हड्डी में भी हो सकता है।
  • दर्द गर्दन से नितंब तक फैल सकता है।
  • कुछ मामलों में, दर्द एक या दोनों पैरों में महसूस किया जा सकता है।
  • कमर दर्द के दौरान व्यक्ति को झुकने, उठने, बैठने या चलने में परेशानी हो सकती है।
  • पीठ दर्द के कारण धड़ की गति धीमी हो सकती है।
  • लगातार पीठ दर्द की वजह से मूड में बदलाव जैसे चिड़चिड़ापन, डिप्रेशन भी हो सकता है।

यह भी देखें :-

कमर दर्द का घरेलू इलाज

निचे दी गयी जानकारी में आपको कमर दर्द के पांच घरेलू इलाज के बारे में बताया गया है। तो आओ शुरू करें :-

1. अदरक या अदरक का तेल

सामग्री :-

  1. अदरक के एक या दो छोटे टुकड़े
  2. एक कप गर्म पानी
  3. शहद (वैकल्पिक)

कैसे इस्तेमाल करे :-

  • एक कप गर्म पानी में अदरक को 5 से 10 मिनट के लिए भिगो दें।
  • स्वाद के लिए इसमें शहद मिलाएं और ठंडा होने से पहले इसका सेवन करें।
  • इस मिश्रण का सेवन हफ्ते में दो से तीन बार किया जा सकता है।
  • आप अदरक के तेल का इस्तेमाल पीठ की मालिश के लिए भी कर सकते हैं।
  • अगर आप अदरक का तेल लगा रहे हैं तो रात को सोने से पहले लगा सकते हैं।

2. तुलसी के पत्ते

सामग्री :-

  1. तुलसी के 10 से 15 पत्ते
  2. एक गिलास पानी

कैसे इस्तेमाल करे :-

  • तुलसी के पत्तों को 10 मिनट के लिए गर्म पानी में भिगो दें।
  • स्वाद के लिए इसमें शहद मिलाएं और पानी के ठंडा होने से पहले इस चाय का सेवन करें।
  • आप कमर पर तुलसी का तेल भी लगा सकते हैं।
  • इस चाय का सेवन दिन में दो से तीन बार किया जा सकता है।
  • अगर आप तुलसी का तेल लगा रहे हैं तो आप इसे दिन में एक या दो बार लगा सकते हैं।

3. लहसुन

सामग्री :-

  1. आठ से दस लहसुन की कलियाँ
  2. एक साफ तौलिया

कैसे इस्तेमाल करे :-

  • लहसुन की कलियों को अच्छी तरह से मसल कर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को दर्द वाली जगह पर लगाएं और साफ तौलिये से ढक दें।
  • इसे करीब आधे घंटे के लिए छोड़ दें और फिर गीले कपड़े से पोंछ लें।
  • आप चाहें तो रोज सुबह लहसुन की 2 से 3 कलियां भी चबा सकते हैं।
  • अगर आपको लहसुन का स्वाद पसंद नहीं है तो आप इसे खाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसके अलावा सरसों के तेल में लहसुन डालकर गर्म करें और फिर कमर की मालिश करें।

4. सेंधा नमक

सामग्री :-

  1. एक या दो कप सेंधा नमक
  2. पानी की एक बाल्टी

कैसे इस्तेमाल करे :-

  • एक बाल्टी पानी में सेंधा नमक मिलाएं।
  • अब इस पानी से नहा लें।
  • इसके अलावा आप इस पानी से एक तौलिये को गीला करके अपने शरीर को पोंछ सकते हैं और बचे हुए पानी से नहा भी सकते हैं।
  • इस तरीके को आप हफ्ते में दो से तीन बार कर सकते हैं।

5. कैमोमाइल चाय

कैसे इस्तेमाल करे :-

  • कैमोमाइल टी बैग्स को एक कप गर्म पानी में एक से दो मिनट के लिए भिगो दें।
  • स्वादानुसार शहद मिलाएं और इस चाय का सेवन करें।
  • इस चाय का सेवन दिन में कम से कम एक बार किया जा सकता है।

यह भी देखें :-

निष्कर्ष :- दोस्तों, आपको इस पोस्ट में हमने कमर दर्द के बारें में जानकरी दी है अगर जानकारी पसंद आयी तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें। धन्यवाद।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *