जौ की खेती कैसे करें – joo ki kheti

joo ki kheti – जौ प्राचीन काल से पृथ्वी पर सबसे अधिक खेती वाले अनाजों में से एक है। इसका उपयोग प्राचीन काल से धार्मिक समारोहों में किया जाता रहा है। संस्कृत में इसे “यव” कहते हैं। यह मुख्य रूप से रूस, यूक्रेन, अमेरिका, जर्मनी, कनाडा और भारत में उगाया जाता है।

 joo ki kheti

जौ की खेती

जौ की खेती ( joo ki kheti) रबी मौसम में एक प्रमुख फसल मानी जाती है। पिछले कुछ वर्षों से बाजार में जौ की मांग काफी बढ़ गई है, इसलिए इसकी खेती से किसानों को अधिक लाभ मिल रहा है। देश में जौ की खेती मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश, गुजरात और जम्मू-कश्मीर में की जाती है। देश में 8 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हर साल करीब 16 लाख टन जौ का उत्पादन होता है। इसका उपयोग कई उत्पादों में किया जाता है, जैसे कि चारा, पशु चारा, चारा और कई औद्योगिक उपयोग (वाइन, बेकरी, पेपर, फाइबर पेपर, फाइबर बोर्ड जैसे उत्पाद)।

जौ की उन्नत किस्में

joo ki kheti फसल से अधिक उत्पादन प्राप्त करने के लिए अपने क्षेत्र की विकसित किस्मों का चयन करना चाहिए। उत्तरी मैदानों के लिए ज्योति, आजाद, के-15, हरीतिमा, प्रीति, जागृति, लखन, मंजुला, नरेंद्र बारू-1, 2 और 3, के-603, एनडीबी-1173 आदि किस्मों को महत्वपूर्ण माना जाता है।

जो के लिए मिट्टी और जलवायु

  • इसकी खेती बलुई, बलुई दोमट, क्षारीय और लवणीय मिट्टी में की जा सकती है।
  • दोमट मिट्टी जौ की खेती के लिए सबसे अच्छी होती है।
  • यदि समशीतोष्ण जलवायु में खेती की जाती है, तो यह अच्छी पैदावार प्राप्त करने में सक्षम होगी।
  • बुवाई के समय तापमान 25 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड होना चाहिए।
  • इसकी joo ki kheti आमतौर पर असिंचित क्षेत्रों में की जाती है।

बीज मात्रा

समय पर बुवाई के लिए प्रति एकड़ 40 किलो बीज की आवश्यकता होती है।

यदि आप देर से बुवाई कर रहे हैं तो बीज की मात्रा 15 से 20 प्रतिशत बढ़ा दें।

जौ की बुवाई का समय

joo ki kheti  बुवाई का उचित समय नवम्बर के प्रथम सप्ताह से अन्तिम सप्ताह तक किया जा सकता है, परन्तु देर से बुवाई मध्य दिसम्बर तक की जा सकती है।

जौ की बुवाई विधि

joo ki kheti बुवाई पुलाव के बाद ही करनी चाहिए। ध्यान रहे कि कतार से कतार की दूरी 22.5 सेमी हो। का होना चाहिए। यदि बुवाई में देरी होती है, तो पंक्ति से पंक्ति की दूरी 25 सेमी होनी चाहिए। रखा जाना चाहिए।

यह भी देखे :- सरसो की खेती कैसे करें? बुआई से कटाई तक ; Mustard Cultivation

सिंचाई और खरपतवार नियंत्रण

  • जौ की फसल को कुल 4 से 5 सिंचाई की आवश्यकता होती है।
  • पहली सिंचाई पौधों के जड़ विकास के समय यानि बुवाई के 25 से 30 दिन बाद करें।
  • दूसरी सिंचाई बुवाई के 40 से 45 दिन बाद करें।
  • तीसरी सिंचाई पौधों में फूल आने के समय करनी चाहिए।
  • चौथी सिंचाई दानों में दूध बनने के समय करनी चाहिए।

यह भी देखे :- चने की खेती कैसे करें ; Chane ki Kheti

जौ की फसल कब काटे

कटाई तब करनी चाहिए जब फसल के पौधे और कलियाँ सूख कर पीली या भूरी हो जाएँ। यदि झुमके अधिक पके हुए हैं, तो झुमके के गिरने की संभावना बढ़ जाती है।

कटाई के बाद अनाज को अच्छी तरह सुखाकर थ्रेशर से भूसे से अलग कर देना चाहिए। इसके बाद सुखाने और साफ करने के बाद इसे बोरियों में भरकर सुरक्षित स्थान पर रख देना चाहिए।

यह भी देखे :-  गेहू की खेती कैसे करे? बिजाई से कटाई तक ; Gehu Ki Kheti

जौ की पैदावार

यदि अनुकूल परिस्थितियों में उन्नत तकनीक से जौ की खेती (joo ki kheti) की जाए तो 1 हेक्टेयर क्षेत्र में 35 से 50 क्विंटल अनाज प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा 50 से 75 क्विंटल भूसे की उपज प्राप्त की जा सकती है।

अंतिम शब्द

आज आपको इस पोस्ट में बताया है की जौ की खेती कैसे करें – joo ki kheti हम आसा करते है की यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी यह पोस्ट पसंद आई हो तो कमेंट करके जरूर बताये |

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *