फटाफट हिचकी रोकने के लिए अपनाएं ये 12 तरीके

आम आदमी में हिचकी यानि हिचकी को शगुन और अपशकुन के अनुसार देखा जाता है। जब किसी को हिचकी आती है, तो वे कहते हैं, “कोई मुझे याद करता है, इसलिए मुझे हिचकी आती है।” किसी को याद करने से कोई लेना-देना नहीं है।

यह वायु विकार का रोग है, जब छाती और पेट के बीच की मांसपेशियां सिकुड़ने लगती हैं, तो हमारे फेफड़े बहुत जल्दी हवा निकालने लगते हैं और सांस लेने में काफी तकलीफ होती है, इस पूरी प्रक्रिया में पेट से हवा निकलती है’ हिट। आवाज के साथ हिचकी के रूप में मुंह से ‘हिक’ निकलता है।

how to stop hiccups

हिचकी क्या है ?

हिचकी को हिक्का के नाम से भी जाना जाता है। आयुर्वेद के अनुसार शरीर में कोई भी रोग वात, पित्त और कफ विकारों के कारण होता है। इसी तरह, वात और कफ दोष विकारों के कारण हिचकी आती है।

हिचकी की समस्या आमतौर पर श्वसन तंत्र के विकार के कारण होती है, लेकिन इसमें पाचन तंत्र की भी भूमिका होती है। हिचकी डायफ्राम के सिकुड़ने से होती है। डायाफ्राम वह मांसपेशी है जो आपकी छाती को आपके पेट से अलग करती है।

यह साँस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि इसमें संकुचन या दबाव होता है, तो आपकी वोकल कॉर्ड्स अचानक बंद हो जाती हैं और एक ‘हिच’ ध्वनि उत्पन्न करती हैं। इसे हिचकी या हिचकी कहते हैं।

पैर दर्द की बेस्ट दवाई कौनसी है?

फटाफट हिचकी रोकने के लिए अपनाएं ये 12 तरीके

  1. जल्दी आराम पाने के लिए (हिचकी रुकने के ऊपर) नींबू का एक टुकड़ा एक बार में एक बार चूसें।
  2. एक गिलास पानी में 2-3 इलायची उबालकर पीने से आराम मिलता है।
  3. एक गिलास ठंडे पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से हिचकी से जल्दी आराम मिलता है।
  4. हिचकी बंद करने के लिए एक चम्मच चीनी मुंह में डालकर चूसें और फिर पानी पी लें।
  5. कुलठा दाल या सूप बनाकर खाएं।
  6. दो ग्राम हरीतकी का चूर्ण शहद में मिलाकर बार-बार चाटें।
  7. हिचकी बंद करने के लिए आमलकी और कपिठा के रस का सेवन करें। इसमें शहद और पिप्पली मिलाकर चाटने दें।
  8. बार-बार हिचकी आने की स्थिति में चित्रकादि वटी का सेवन दिन में तीन बार करें।
  9. हिचकी आने के बाद बार-बार पानी पीने से भी हिचकी को रोका जा सकता है।
  10. बच्चों को हिचकी आने पर एक चम्मच शहद या पीनट बटर खिलाएं।
  11. अदरक का एक छोटा टुकड़ा लेकर उसे धीरे-धीरे चबाकर खाने से हिचकी आना बंद हो जाती है।
  12. हिचकी वाले व्यक्ति को अचानक से डराने की कोशिश करें, या उनका ध्यान हटाने की कोशिश करें।

हिचकी की होम्योपैथिक दवा

  • हिचकी, खाने के बाद या तंबाकू की गंध से—इग्निशिया-30 एक माह तक दिन में तीन बार।
  • हिचकी, अत्यधिक और पीड़ादायक, भोजननली में सिकुड़न के साथ—विराट्रम विरडिस-6 दिन में चार बार।
  • हिचकी, गर्भावस्था के दौरान—साइक्लामेन यूरोपियम-6 हर छह घंटे पर।
  • हिचकी—नक्स वोमिका-6 दिन में तीन बार।

हिचकी क्यों आती है ?

यह समस्या पुरुषों से ज्यादा महिलाओं में देखी जाती है। इसमें डायफ्राम पेशी अहम भूमिका निभाती है। फ्रेनिक नसें डायाफ्राम की गति को नियंत्रित और उत्तेजित करती हैं।

यदि इन नसों में कोई समस्या होती है, तो डायाफ्राम में ऐंठन होती है और एपिग्लॉटिस के अचानक बंद होने के कारण हिचकी आती है।

कभी-कभी हिचकी ज्यादा खाने, हवा निगलने, बहुत गर्म और मसालेदार खाना खाने, तनाव या किसी तरह के झटके से भी होती है। हिचकी आने के निम्न कारण हो सकते हैं:-

  1. अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ खाना
  2. ठंडे भोजन का सेवन।
  3. अपच की स्थिति में भोजन करना।
  4. ठंडी जगह पर रहना।
  5. धुआं, धूल, तेज हवा का चूषण।
  6. भोजन करते समय अधिक भोजन करना या बात करना।
  7. कार्बोनेटेड पेय पिएं।
  8. अधिक शराब पीना
  9. किसी भी तरह के तनाव में रहना या भावनात्मक रूप से परेशान होना।
  10. लंबे समय तक च्युइंग गम चबाना।
  11. बहुत देर तक हंसने के बाद भी अनजाने में हवा व्यक्ति में प्रवेश कर जाती है और हिचकी आने लगती है।
  12. इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन
  13. तनाव दूर करने के लिए ट्रैंक्विलाइज़र का अत्यधिक उपयोग।

रुका हुआ पीरियड लाने की दवा कोनसी है ?

हिचकी रोकने की अंग्रेजी दवा

इस रोग के लिए नक्स वोमिका 30, मेगाफोस 30 और काजुपुटम दवाएं दी जाती हैं। इन्हें दिन में 3-4 बार लेना होता है, लेकिन इलाज के दौरान मिर्च-मसालेदार खाना खाने से बचें और तनावमुक्त रहें। आयुर्वेद : लसोड़े की चटनी को दिन में तीन बार चाटने से हिचकी आना बंद हो जाती है।

हिचकी में हानिकारक चीजें : परहेज

अपने भोजन को आराम से चबाएं। जब हम तेजी से खाते हैं, तो हम खाने के टुकड़ों को ठीक से चबा नहीं पाते हैं। यह पेट में गैस और हिचकी आने के मुख्य कारणों में से एक है। यह समस्या पेट पर अत्यधिक भार के कारण भी उत्पन्न होती है।

एक तरह से हिचकी एक संदेश है कि भोजन को ना कहने का समय आ गया है, क्योंकि अब शरीर के पाचन तंत्र को भोजन पचाने का काम पूरा करना होता है। इसलिए कभी भी जरूरत से ज्यादा खाना खाकर अपना पेट न फुलाएं।  

कुछ मसाले अन्नप्रणाली और पेट की परत में जलन पैदा करते हैं। इसके साथ ही ये पेट में बनने वाले एसिड को पाचन तंत्र तक पहुंचाने का काम भी करते हैं। एसिड की यह अधिक मात्रा भी इसका कारण बनती है।

इसलिए अधिक मसालेदार और अम्लीय खाद्य पदार्थों से भी बचना चाहिए। धूम्रपान, शराब और कार्बोनेटेड पेय भी इस समस्या का कारण बन सकते हैं, इसलिए धूम्रपान और शराब से बचना चाहिए, कम मात्रा में सेवन करना चाहिए।  

महत्वपूर्ण बात: अगर आपकी हिचकी इन उपायों से दूर नहीं होती है और यह 48 घंटे से अधिक समय तक बनी रहती है, तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। लगातार हिचकी आना भी किसी बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है।  

हिचकी का 48 घंटे से अधिक समय तक बने रहना स्ट्रोक, नियोप्लासिया, ट्यूमर या विष का संकेत हो सकता है। यह केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में गड़बड़ी या चयापचय प्रणाली (जैसे मधुमेह) में गड़बड़ी का संकेत भी हो सकता है।  

गांजा क्या होता है गांजा के फायदे और नुकसान 

अंतिम शब्द: हिचकी कैसे रोके? 12 तरीके जो फटाफट हिचकी रोकने के लिए बताये है और हिचकी क्या है और हिचकी क्यों आती है इसके आलावा हिचकी के पहरेज भी बताये है यह पोस्ट आपको केसा लगा कमेंट करके जरूर बताये।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *