आंवला क्या है? आंवला के फायदे व नुकसान क्या है? Gooseberry

Gooseberry :-आयुर्वेद में Gooseberry को अमृतफल या धात्रिफल कहा जाता है।  आंवला का प्रयोग वैदिक काल से औषधि के रूप में किया जा रहा है।

आंवला क्या है?

आयुर्वेद में Gooseberry को अमृतफल या धात्रिफल कहा जाता है।  आंवला का प्रयोग वैदिक काल से औषधि के रूप में किया जा रहा है।

जो औषधि पेड़-पौधों से बनती है उसे कस्तौषधि कहते हैं और धातुओं और खनिजों से बनने वाली औषधि को रसौषधि कहते हैं।  आंवला का प्रयोग इन दोनों प्रकार की औषधियों में किया जाता है।  आंवला को भी केमिकल्स में सबसे अच्छा माना जाता है यानी जब बाल बेजान और रूखे-सूखे हो जाते हैं तो आंवला के इस्तेमाल से बालों में नई जान आ जाती है।  आंवला का पेस्ट लगाने के बाद सूखे बाल काले, घने और चमकदार दिखने लगते हैं।

चरक संहिता में आंवला का उल्लेख जीवन को बढ़ाने, ज्वर को कम करने, खांसी को दूर करने और कुष्ठ रोग को नष्ट करने के लिए किया गया है।  इसी प्रकार सुश्रुत संहिता में आंवला को अधोभागहार शमन औषधि बताया गया है, अर्थात आंवला वह औषधि है, जो मल द्वारा शरीर के दोषों को दूर करने में सहायक है।  भारतीय आंवले का उपयोग पाचन रोगों और पीलिया के लिए किया जाता है।

 हरे आंवलों फोटो नीचे दिख सकते है।

 

Gooseberry

 

सूखे आंवले की फोटो

Gooseberry

 

आंवला के गुण

छोटे हरे रंग के आंवले के गुण अद्भुत होते हैं।  Gooseberry के गुणों के कारण इसे 100 रोगों की औषधि कहा जाता है।  इसमें विटामिन सी, विटामिन एबी कॉम्प्लेक्स, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर और मूत्रवर्धक एसिड होता है।  यह न केवल शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है बल्कि बुखार को कम करने, खांसी को ठीक करने और कुष्ठ रोग को नष्ट करने का भी काम करता है।  इतना ही नहीं, यह एंटी-एजिंग का भी काम करता है।  खास बात यह है कि इसमें मौजूद विटामिन सी कभी खत्म नहीं होता है।  इसका अचार बनने के बाद भी विटामिन सी के गुण जस के तस बने रहते हैं।

आंवला खाने के फायदे

Gooseberry खाने के बहुत से फायदे होते हैं अगर हम आंवले को नियमित रूप से खाए तो आंवला हरे सरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

बालों की समस्या

सफेद बालों की समस्या से हर उम्र के लोग जूझ रहे हैं।  आंवले के मिश्रण का पेस्ट लगाने से कुछ ही दिनों में बाल काले हो जाते हैं।  30 ग्राम सूखा आंवला, 10 ग्राम बहेड़ा, 50 ग्राम आम की गुठली और 10 ग्राम लोहे की राख लें।  इन्हें रात भर लोहे की कड़ाही में भिगो दें।  अगर बाल कम उम्र में सफेद हो रहे हैं तो इस पेस्ट को रोजाना लगाएं।  कुछ ही दिनों में बाल काले होने लगते हैं। आंवला, रीठा और शिकाकाई को मिलाकर काढ़ा बना लें।  इसे बालों पर लगाएं।  सूखने के बाद बालों को पानी से धो लें।  इससे बाल मुलायम, घने और लंबे होते हैं

नाक से खून आने की समस्या

नाक से खून आने के कई कारण हो सकते हैं।  इसमें Gooseberry फायदेमंद होता है।  जामुन, आम और आंवले को कांजी आदि के साथ बारीक पीस लें। इसे माथे पर लगाने से नाक से खून आना बंद हो जाता है।

पथरी की समस्या

पथरी की समस्या में भी आंवला कारगर उपाय साबित होता है। पथरी होने पर 40 दिन तक आंवले को सुखाकर उसका पाउडर बना लें, और उस पाउडर को प्रतिदिन मूली के रस में मिलाकर खाएं। इस प्रयोग से कुछ ही दिनों में पथरी गल जाएगी।

आंखो की समस्या

Gooseberry आंखों के लिए अमृत के समान है, यह आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है।  इसके लिए एक चम्मच आंवला का चूर्ण प्रतिदिन शहद के साथ लेने से लाभ मिलता है और मोतियाबिंद की समस्या भी समाप्त हो जाती है।

दांतो की मजबूती की समस्या

भोजन को शरीर का ईंधन कहा जाता है परंतु स्वस्थ एवं मज़बूत दाँतों के बिना हम अन्न ग्रहण करने में असमर्थ होते हैं। तो यदि आप दाँतों को स्वस्थ और मज़बूत बनाना चाहते हैं तो रोज़ आँवला का सेवन करें।

आवँला एक शक्तिशाली एंटीमाइक्रोबायल एजेंट है। इसलिए यह विभिन्न प्रकार के रोगजनकों और बैक्टीरिया से होने वाली परेशानी को कम कर सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि आँवला स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन नामक बैक्टीरिया के विकास को रोकने में सक्षम है। स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन दांतो में कीड़ा लगने का मुख्य कारण होता है। अतः इसके विकास को रोक कर आँवला दन्त क्षय (दांतो में कीड़ा लगना) जैसी दातों की समस्याओं के इलाज में फायदेमंद है।

चेहरे की समस्या

चेहरे के दाग-धब्बे हटाकर उसे खूबसूरत बनाने के लिए भी आंवला आपके लिए उपयोगी होता है। इसका पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा साफ, चमकदार होती है और झुर्रियां भी कम हो जाती हैं।

 

मजबूत हड्डियों के लिए

Gooseberry में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है।  यही कारण है कि आंवला हड्डियों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।  यह हड्डियों को मजबूत बनाता है।  रोजाना आंवले का जूस पीने से हड्डियां मजबूत होती हैं।  यह गुण गठिया के दौरान होने वाली संयुक्त सूजन को कम करने में मदद कर सकता है।

ज्यादा आंवले खाने के नुक़सान

आंवला एक बेहतरीन फल है, लेकिन आइए हम आपको बताते हैं कि इसके ज्यादा इस्तेमाल से क्या-क्या समस्याएं हो सकती हैं।
  •   ज्यादा आंवला खाने से लीवर खराब हो सकता है।  खासतौर पर अगर इसका सेवन आंवले और अदरक के साथ किया जाए तो यह आपके लीवर को प्रभावित कर सकता है।
  •   अधिक आंवला खाने से एसिडिटी और कब्ज की समस्या हो सकती है।
  •   ज्यादा आंवला खाने से पेशाब में जलन होती है।
  •   अगर आपको किडनी की समस्या है तो आंवले का सेवन नहीं करना चाहिए।
  •   आंवले के ज्यादा सेवन से हाइपरटेंशन की समस्या हो सकती है।

आंवला के जूस के फायदे

आंवले का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है। एक आंवले में दो संतरे के बराबर विटामिन सी पाया जाता है, जो कई बीमारियों से लड़ने में मददगार होता है। आंवला के फल या जूस का आप सेवन करते हैं तो आपको विटामिन सी के अलावा जिंक, आयरन, कैरोटीन, फाइबर, विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, कैल्शियम, एंटीऑक्सीडेंट्स आदि मिलते हैं। आंवला के नियमित सेवन से आप कई तरह की बीमारियों से बच सकते हैं।

कच्चा Gooseberry खाने के फायदे

कच्चा आंवला Gooseberry पाउडर से ज्यादा फायदेमंद होता है।  इसके रोजाना सेवन से खून साफ ​​होता है।  कच्चा आंवला खाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, इसका स्वाद काफी कड़वा होता है.  अगर आप कच्चा आंवला खाना चाहते हैं, तो इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में पीसकर शहद के साथ मिलाकर ऊपर से थोड़ा सा चाट मसाला छिड़कें।  इसका स्वाद अच्छा लगेगा।

यह भी देखें

निष्कर्ष
आज आपको इस पोस्ट में बताया गया कि आंवला के फायदे व नुकसान आंवला से खाने से क्या होता है। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया तो हमें कोंमेट करके जरूर बताए

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *