धनतेरस का त्योहार क्यों मनाया जाता है? – Dhanateras ka Tyohaar

Dhanateras ka Tyohaar – कार्तिक मास की कृष्ण त्रयोदशी को धनतेरस कहा जाता है। यह त्यौहार दीपावली के आगमन की पूर्व सूचना देता है। इस दिन नए बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है। धनतेरस के दिन मृत्यु के देवता यमराज और भगवान धन्वंतरि की पूजा का महत्व है।

Why is the festival of Dhanteras celebrated

क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्योहार?-Why is the festival of Dhanteras celebrated?

भारतीय संस्कृति में स्वास्थ्य को धन से ऊपर माना गया है। यह कहावत आज भी प्रचलित है कि ‘पहला सुख स्वस्थ शरीर है, दूसरा सुख घर में है’, इसलिए दीपावली में सबसे पहले धनतेरस को महत्व दिया जाता है। जो भारतीय संस्कृति के अनुसार एकदम उपयुक्त है।

शास्त्रों में वर्णित कथाओं के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन भगवान धन्वंतरि हाथों में अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। ऐसा माना जाता है कि भगवान धन्वंतरि विष्णु के अवतार हैं। विश्व में चिकित्सा विज्ञान के विस्तार और प्रसार के लिए ही भगवान विष्णु ने धन्वंतरि का अवतार लिया था। धनतेरस का त्योहार भगवान धन्वंतरि के प्रकट होने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

धनतेरस के दिन क्या करें?-What to do on the day of Dhanteras?

धनतेरस के दिन अपनी क्षमता के अनुसार किसी भी रूप में चांदी और अन्य धातुएं खरीदना बहुत शुभ होता है।

धन प्राप्ति के लिए घर के पूजा स्थल पर कुबेर देवता को दीपक दान करें और मुख्य द्वार पर मृत्यु देवता यमराज को भी दीपक दान करें।

धनतेरस की पौराणिक और प्रामाणिक कहानी-Mythological and authentic story of Dhanteras

  • धनतेरस से जुड़ी कथा यह है कि कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी के दिन देवताओं के कार्य में बाधा डालने के कारण भगवान विष्णु ने असुरों के गुरु शुक्राचार्य की एक आंख तोड़ दी थी।
  • किंवदंती के अनुसार, भगवान विष्णु ने राजा बलि के भय से देवताओं को मुक्त करने के लिए वामन के रूप में अवतार लिया और राजा बलि के बलिदान के स्थान पर पहुंचे। शुक्राचार्य ने भी भगवान विष्णु को वामन के रूप में पहचान लिया और राजा बलि से वामन के कुछ भी मांगने से इनकार करने का आग्रह किया। वामन ही असली भगवान विष्णु हैं जो देवताओं की मदद के लिए आपसे सब कुछ छीनने आए हैं।
  • बाली ने शुक्राचार्य की बात नहीं मानी। वामन ने कमंडल से जल लेकर भगवान द्वारा मांगी गई तीन पग भूमि दान करने का संकल्प लिया। बलि को दान करने से रोकने के लिए शुक्राचार्य ने लघु रूप धारण करके राजा बलि के कमंडल में प्रवेश किया। इससे कमंडल से पानी निकलने का रास्ता बंद हो गया।
  • वामन भगवान शुक्राचार्य की चाल समझ गए। भगवान वामन ने कुश को अपने हाथ में इस प्रकार रखा कि शुक्राचार्य की एक आंख फट गई। शुक्राचार्य हड़बड़ा कर कमंडल से बाहर आ गए।
  • इसके बाद बाली ने तीन पग भूमि दान करने का संकल्प लिया। तब भगवान वामन ने एक पैर से पूरी पृथ्वी को और दूसरे से अंतरिक्ष को मापा। तीसरा कदम उठाने के लिए कोई जगह न होने के कारण, बाली ने अपना सिर भगवान वामन के चरणों में रख दिया। बलिदान में उन्होंने अपना सब कुछ खो दिया।
  • इस प्रकार देवता यज्ञ के भय से मुक्त हो गए और बलि ने देवताओं से जो धन और धन छीन लिया था, वह देवताओं से कई गुना अधिक धन प्राप्त कर गया। इस अवसर पर धनतेरस का पर्व भी मनाया जाता है।

अंतिम शब्द

आज आपको इस पोस्ट में बताया है की धनतेरस का त्योहार क्यों मनाया जाता है? और धनतेरस की पौराणिक और प्रामाणिक कहानी भी बताई है यह पोस्ट केसा लगा कॉमेंट करके जरूर बताये |

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *