अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?(Crop in October) – बीज की अच्छी किस्म

Crop in October :- हेलो दोस्तों, आज आपको अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये(Crop in October) के बारे में बताने जा रहा हूँ और अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये(Crop in October) की जानकारी आपको बहुत काम आ सकती है तो इस जानकारी को अंत तक पढ़िए:-

 Crop in October

अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?

Crop in October :- दोस्तों सबसे पहले आपको यह बता दू की अक्टूबर का महीना जिसे अश्विन-कार्तिक मास के नाम से भी जाना जाता है, मुख्य रूप से त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है, वहीं खरीफ फसलों का प्रचुर उत्पादन भी इसका एक मुख्य कारण है और दूसरी ओर रबी सीजन की तैयारी शुरू करनी पड़ती है।

अक्टूबर माह में कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण बातें – Crop in October

Crop in October :- दोस्तों, अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये? के बारे में  तीन महत्वपूर्ण बातें बता रहा हूँ और उसके बाद हम बात करेंगे की अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?

  1. मृदा परीक्षण (मृदा ज्योतिषी) – अक्टूबर के महीने में खेत खाली होने पर मिट्टी के नमूने लें। 3 साल में एक बार अपने खेत की मिट्टी का परीक्षण अवश्य कराएं ताकि मिट्टी में उपलब्ध पोषक तत्वों (नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, सल्फर, जस्ता, लोहा, तांबा, मैंगनीज और अन्य) की मात्रा और फसलों में कौन से उर्वरक, कब और में उपलब्ध हों। कितनी मात्रा में डालना है, यह जानने के लिए।
  2. खाद्य भंडारण (खाद्य सुरक्षा) कीड़े खरीफ फसलों के दानों को बहुत अधिक नुकसान पहुंचाते हैं, इनसे बचने के लिए भोजन को अच्छी तरह से धूप में सुखाकर साफ कर लें। गोदान और खाने के ड्रमों में दरारें और दरारें ठीक से बंद कर दें। नए बोरे का प्रयोग करें और उन्हें 0.1 प्रतिशत मैलाथियान के घोल में 10 – 17 मिनट के लिए डुबोएं, फिर छाया में सुखाएं और अनाज के ठंडा होने पर स्टोर करें। चना और अन्य दालों पर 7.7 मिली सरसों या मूंगफली का तेल। प्रति किग्रा. दानों की दर से अच्छी तरह मैश कर लें।
  3. फसल विविधीकरण (लाभदायक कृषि) – आजकल गेहूं की खेती में लाभ नगण्य है, लेकिन राई/सरसों रुपये का शुद्ध लाभ कमा सकते हैं। 1200. गन्ना भी 700 रुपये से अधिक लाभ नहीं देता है, लेकिन गेदा जैसे फूलों की खेती या सब्जियां उगाने या चारा बोने से ही लाभ मिलता है और इसे बेचने में कोई समस्या नहीं होती है।

अक्टूबर महीने की फसल – Crop in October

Crop in October :- दोस्तों अब आपको कुछ मुख्य फसलों के बारे में बताने जा रहा हूँ जी अक्टूबर के महीने में बोई जाती है या खेत में पक्की हुई भी हो सकती है | उसके बारे में आपको पूरी जानकारी देंगे :-

1. चावल – Rice

धान में जीवाणु झुलसा रोग की रोकथाम के लिए, जिसमें पत्तियों के सिरे और किनारे सूख जाते हैं, एग्रिमाइसिन 75 ग्राम या स्ट्रेप्टोमाइसिन 15 ग्राम और 500 ग्राम कॉपर ऑक्सीक्लोराइड के घोल को 500 लीटर पानी में निकालकर स्प्रे करें।
तना छेदक कीट को नियंत्रित करने के लिए, जिसके हमले से सूखे बाल निकलते हैं, जिन्हें सफेद बाल भी कहा जाता है, ट्राइकोग्रामा नामक परजीवी को 8-10 दिनों के अंतराल पर छोड़ा जाना चाहिए। क्लोरो-पाइरीफोस 20 ईसी स्प्रे 1.5 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से 600 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करें।
दुर्गंध के नियंत्रण के लिए, जिसमें कीड़ों द्वारा रस चूसने से दाने नहीं बनते हैं और प्रभावित कलियाँ सफेद दिखाई देती हैं, मैलाथियान 5% चूर्ण को फूल आने के समय 25-30 किग्रा प्रति हेक्टेयर की दर से स्प्रे करें।
धान में भूरे रंग के अंकुरों की रोकथाम के लिए खेत से पानी निकाल दें, जिसमें पौधे का रस चूसने से पौधे सूख कर गिर जाते हैं और फसल झुलस जाती है। नीम का तेल 1.5 लीटर या बीपीएमसी 500 मिली। प्रति हेक्टेयर की दर से 500-600 लीटर पानी में घोलकर प्रयोग करें।
चूहों के नियंत्रण के लिए जिंक फास्फाइड या एल्युमिनियम फास्फेट की गोली से बने आहार का प्रयोग किया जाता है।
जल्दी फसल की कटाई करें।

2. तूर – Tur

अरहर की अगेती फसल में फली छेदक कीट की रोकथाम के लिए मोनोक्रोटोफॉस 36ई प्रति हेक्टेयर। C. 800 मिली या कार्बेरिल 50% घुलनशील पाउडर को 2 किलो 800 लीटर पानी में घोलें और 15-20 दिनों के अंतराल पर दो स्प्रे करें।

3. मूंगफली – Peanuts

फली वृद्धि की अवस्था में सिंचाई करें।

4. शीतकालीन मक्का – Mecca

यदि सिंचाई की उचित व्यवस्था की जाए तो मक्का की बुवाई अक्टूबर के अंत में की जा सकती है।
संकर प्रजातियों के लिए प्रति हेक्टेयर 18-20 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है और जटिल प्रजातियों के लिए 20-25 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होती है।

5. पतझड़ गन्ना – Sugarcane

इस समय अक्टूबर का पहला पखवाड़ा बुवाई के लिए उपयुक्त होता है।
बुवाई के लिए पिछले वर्ष शरद ऋतु में बोए गए गन्ने से बीज प्राप्त करें।
शुद्ध फसल की बुवाई में 75-90 सेमी. और आलू, लाही या दाल के साथ फसल में 90 सेंटीमीटर की दूरी पर मिलाएं।
एक हेक्टेयर बुवाई के लिए 60-70 कु. बीज की आवश्यकता होगी।
मृदा परीक्षण के आधार पर ही उर्वरकों का प्रयोग करें। परीक्षण न होने पर 60-75 किग्रा नाइट्रोजन, 80 किग्रा फास्फेट एवं 60 किग्रा पोटाश प्रति हेक्टेयर बुवाई के समय डालें।
बीजोपचार के बाद ही बुवाई करें। 250 ग्राम एरिटान या 500 ग्राम आगलाल को 100 लीटर पानी में घोलकर 25 किलो बना लें। गन्ने के टुकड़ों का उपचार किया जा सकता है।

6. तोरिया – Toria

बुवाई के 20 दिन के अंदर निराई-गुड़ाई कर लें और घने पौधों को भी हटा दें और पौधे से पौधे की दूरी 10-15 सें.मी.
सितंबर में बोई गई फसल में पहली सिंचाई बुवाई के 25-30 दिन बाद करें और 50 किलो नाइट्रोजन (108 किलो यूरिया) प्रति हेक्टेयर की टॉप ड्रेसिंग करें।

7. राई सरसों – Rye Mustard

राई की बुवाई के लिए महीने का पहला पखवाड़ा सबसे उपयुक्त होता है।
बरुना, नरेंद्र राय -8501, रोहिणी और देर से बुवाई के लिए आशीर्वाद और वरदान जल्दी बुवाई के लिए अच्छी किस्में हैं।
45×15 सें.मी. पर 3 सें.मी. गहरी कुंडों में बुवाई करें।
मृदा परीक्षण के आधार पर ही उर्वरकों का प्रयोग करें। परीक्षण न होने पर 120 किग्रा० नत्रजन, 60 किग्रा० फास्फेट एवं 60 किग्रा० पोटाश प्रति हेक्टेयर डालें अथवा अन्तिम जुताई के समय मिट्टी में मिला दें।
फॉस्फोरस के लिए सिंगल सुपर फास्फेट का प्रयोग करें अन्यथा 60 किग्रा० सल्फर प्रति हेक्टेयर का प्रयोग आवश्यक है।
आलू के साथ मिश्रित फसल के लिए आलू की तीन पंक्तियों के बाद राई की एक पंक्ति बोएं।
बुवाई के 20 दिनों के भीतर घने पौधों को हटा दें और उनके बीच की दूरी 15 सेमी लाइन में बना लें।

8. चना – Gram

महीने के दूसरे पखवाड़े में चना की बुवाई करें।
उसर क्षेत्र में बुवाई के लिए पूसा-256, ब्लॉकही, राधे, के-850 और करनाल चना-1 अच्छी किस्में हैं।
काबुली चना चमत्कार, पूसा-1003, शुभरा अच्छी किस्में हैं।
100-150 किग्रा डीएपी बुवाई के समय कुंड में या अंतिम जुताई के समय। उपयोग।

9. मटर – Pea

मटर की बुवाई माह के दूसरे पखवाड़े में करें।
रचना, पंत मटर-5, अपर्णा, मालवीय मटर-2, मालवीय मटर-15, शिखा और सपना अच्छी किस्में हैं।
अनाज के लिए 80-100 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर और बौनी किस्मों के लिए 125 किलोग्राम बीज की आवश्यकता होगी।
20 किलो नत्रजन, 60 किलो फास्फेट और 30-40 किलो पोटाश प्रति हेक्टेयर बुवाई के समय डालें।

10. बरसीम – Barseem

बरसीम की बुवाई महीने के पहले पखवाड़े में 1-2 किलो चारा राई 25-30 किलो प्रति हेक्टेयर बीज दर के साथ मिलाकर बोयें।
बुवाई से पहले आखिरी हैरो चलाते समय 20-30 किलो नाइट्रोजन और 80 किलो फॉस्फेट प्रति हेक्टेयर डालें।
हमेशा बरसीम कल्चर वाले चिकोरी मुक्त और उपचारित बीज का ही प्रयोग करें।

11. गेहूं – Wheat

असिंचित क्षेत्रों में अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से गेहूं की बुवाई शुरू कर दें।
K-8027, K-9465 और मंदाकिनी असिंचित क्षेत्रों के लिए अच्छी किस्में हैं।

12. जौ – Barley

असिंचित क्षेत्रों में 20 अक्टूबर से जौ की बुवाई शुरू की जा सकती है।
असिंचित क्षेत्रों के लिए, K-141, K-560 (हरितिमा), गीतांजलि, लखन और आज़ाद उसरीली भूमि के लिए अच्छी किस्में हैं।
80-100 किलो बीज प्रति हेक्टेयर बुवाई करें।

यह भी देखें :- अक्टूबर में कौनसी सब्जिया व किस्मे उगाये?

अंतिम शब्द

Crop in October :- दोस्तों इस पोस्ट या आर्टिकल में आपको अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?(Crop in October) के बारे में बताया है और अक्टूबर महीने की फसलों के बारे में भी काफी जानकारी दी है, इसके अलावा अक्टूबर महीने की फसलों के बीजो की अच्छी किस्मो के बारे में भी जानकारी दी है |

अगर हमारी अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?(Crop in October) के बारे में दी जानकारी पसंद आयी तो अपने दोस्तों को भी शेयर करे,  ताकि उनको भी अक्टूबर में कौनसी फसल उगाये?(Crop in October) के बारे में पता चले |

आपका दिन शुभ हो, धन्यवाद 

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *