Chawal ki kheti – धान, चावल की खेती कैसे करें?

Chawal ki kheti :- रामराम किसान भाइयो, उम्मीद है की आप अच्छे हो और आपका परिवार भी स्वस्थ है | आज आपको इस में में हम चावल की खेती(Chawal ki kheti) के बारे में पूरी जानकारी देंगे जीसके कारण आपको चावल की खेती में पैदावार अच्छी होगी | तो आओ शुरू करते है Chawal ki kheti के बारे में :-

Chawal ki kheti

Chawal ki kheti

  • धान,चावल दुनिया की प्रमुख खाद्य फसल है, चावल किसी भी अन्य अनाज की तुलना में सबसे अधिक खपत वाला अनाज है।
  • भारत में भी, चावल विशेष रूप से भारत के दक्षिणी और पूर्वी हिस्सों में लोगों का मुख्य भोजन है।
  • यह भारत और एशिया के अन्य हिस्सों जैसे चीन, जापान, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, थाईलैंड आदि में व्यापक रूप से खेती की जाती है।
  • धान दुनिया में मकई के बाद दूसरी सबसे बड़ी फसल है।
  • चीन चावल के उत्पादन में दुनिया में पहले स्थान पर है, उसके बाद भारत दूसरे नंबर पर है।
  • विश्व का लगभग 20% चावल हमारे देश में उगाया जाता है।
  • एक आंकड़े के अनुसार, भारत में 42 मिलियन हेक्टेयर भूमि पर 92 मिलियन मीट्रिक टन चावल का उत्पादन होता है।

Chawal ki kheti

चावल की खेती :- आइए इस ब्लॉग में जानते हैं कि भारत में चावल उत्पादन की क्या स्थिति है? जैसा कि मैंने ऊपर बताया, भारत में धान की खेती बहुत बड़े पैमाने पर की जाती है। देश के विभिन्न भागों में धान की विभिन्न किस्में उगाई जाती हैं। पश्चिम बंगाल भारत का सबसे बड़ा चावल उत्पादक राज्य है। इसके बाद क्रमशः उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश का नाम आता है।

यह भी देखें :- धान, चावल की खेती कैसे करें?

1. बीज चयन

धान की खेती(Chawal ki kheti) में बीज चयन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। खेती के लिए चुने गए बीज एक समान आकार, उम्र और खरपतवार मुक्त होने चाहिए। उनकी अंकुरण क्षमता भी अच्छी होनी चाहिए।

  • स्वस्थ पौध उगाने के लिए किसान को हमेशा सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले बीजों का चयन करना चाहिए।
  • गुणवत्ता वाले बीजों का चयन करते समय निम्नलिखित चरणों का पालन करने की आवश्यकता है।
  • चयनित बीज साफ और अन्य बीजों के मिश्रण से मुक्त होना चाहिए।

2. भूमि की तैयारी

पानी की उपलब्धता और मौसम के आधार पर चावल की खेती अलग-अलग तरीकों से की जाती है। आपको बता दें कि जिन क्षेत्रों में सिंचाई के पर्याप्त साधन हैं, वहां खेती की गीली प्रणाली का पालन किया जाता है। दूसरी ओर, जिन क्षेत्रों में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध नहीं है, और पानी की कमी है, वहाँ शुष्क कृषि प्रणाली का पालन किया जाता है।

3. खेत की तैयारी

धान की फसल(Chawal ki kheti) के लिए पहले मिट्टी उलटने वाले हल से जुताई करके और कल्टीवेटर से 2-3 जुताई करके खेत की तैयारी करनी चाहिए, साथ ही खेत की मजबूत बाड़ लगानी चाहिए ताकि बारिश के पानी को अधिक समय तक संग्रहीत किया जा सके। रोपाई से पहले खेत की जुताई पानी से करें।

4. खेत की तैयारी के तरीके

गीली विधि :- गीली विधि से भूमि को अच्छी तरह से जोता जाता है और उसमें 5 सेमी तक की गहराई तक पानी भरा जाता है। दोमट मिट्टी के मामले में यह गहराई 10 सेमी होनी चाहिए। समान जल वितरण सुनिश्चित करने के लिए भूमि को पोखर के रूप में समतल किया जाता है। समतल करने के बाद ही पौधे रोपे जाते हैं।

शुष्क और अर्ध-शुष्क प्रणाली :- इस विधि में धान के खेत की अच्छी तरह जुताई कर देनी चाहिए। जो एक जोड़ी जुताई और हैरोइंग देकर प्राप्त किया जा सकता है। इसके अलावा, खेत की खाद को बुवाई से कम से कम 4 सप्ताह पहले खेत में समान रूप से वितरित किया जाना चाहिए। इस प्रणाली में सूखे बीजों को 30 सेमी की दूरी पर बोया जाता है।

5. प्रसारण विधि

इस विधि में बीजों को हाथ से बोया जाता है और यह विधि उन क्षेत्रों में उपयुक्त होती है जहां मिट्टी उपजाऊ नहीं होती और मिट्टी में मिट्टी सूखी होती है। इसके लिए न्यूनतम श्रम और इनपुट की आवश्यकता होती है। यह विधि अन्य बुवाई विधि की तुलना में बहुत कम उपज देती है।

6. प्रत्यारोपण विधि

  • यह सबसे अधिक प्रचलित तरीका है, और उन क्षेत्रों में इसका पालन किया जाता है
  • जहां मिट्टी उपजाऊ होती है और प्रचुर मात्रा में वर्षा और सिंचाई सुविधाएं उपलब्ध होती हैं।
  • इस विधि में धान के बीजों को नर्सरी क्यारियों में बोया जाता है।
  • एक बार जब बीज अंकुरित हो जाते हैं और अंकुर उखड़ जाते हैं।
  • आमतौर पर यह 15-20 दिनों के बाद होता है।
  • इस विधि में भारी श्रम और निवेश की आवश्यकता होती है।
  • लेकिन यह विधि सबसे अधिक उपज देने वाली विधि है।

7. वृक्षारोपण

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि धान खरीफ की फसल है और धान की रोपाई का उपयुक्त समय जून के तीसरे सप्ताह से जुलाई के तीसरे सप्ताह के मध्य तक है। इसके लिए धान की 21 से 25 दिनों की तैयार पौध की रोपाई उपयुक्त होती है। धान की रोपाई के लिए पंक्ति से पंक्ति की दूरी 20 सेमी और पौधे से पौधे की दूरी 10 सेमी और 2 से 3 पौधे एक ही स्थान पर लगाना चाहिए।

8. पोषण प्रबंधन

चावल की अच्छी उपज(Chawal ki kheti) के लिए खेत में अंतिम जुताई के समय 100 से 150 क्विंटल प्रति हेक्टेयर सड़ी हुई खाद खेत में मिलाते हैं और 120 किग्रा नाइट्रोजन, 60 किग्रा फास्फोरस एवं 60 किग्रा पोटाश उर्वरक के रूप में प्रयोग करते हैं। फास्फोरस और पोटाश की पूरी मात्रा खेत की तैयारी के समय और नत्रजन की आधी मात्रा पौधे की वृद्धि के समय देनी चाहिए।

9. जल प्रबंधन

Chawal ki kheti :- चावल की फसल को फसलों में सबसे अधिक पानी की आवश्यकता होती है, कुछ विशेष परिस्थितियों में फसल की रोपाई के बाद एक सप्ताह तक खेत में पानी बनाए रखना बहुत जरूरी है।

यह भी देखें :- गेहू की खेती कैसे करे? बिजाई से कटाई तक 

10. खरपतवार प्रबंधन

Chawal ki kheti :- चावल की फसल में खरपतवारों को नष्ट करने के लिए खुरपी या पैडवीडर का प्रयोग किया जाता है। रासायनिक विधि से खरपतवार नियंत्रण के लिए पेंडीमेथालिन 30 ईसी रोपण के 3-4 दिनों के भीतर लगाया जाता है। इस जड़ी बूटी के 3.3 लीटर को 750 से 1000 लीटर पानी में प्रति हेक्टेयर मिलाकर खेत में प्रयोग करने से खरपतवार नियंत्रण अच्छी तरह से होता है।

11. रोग प्रबंधन

Chawal ki kheti :- चावल की फसल में प्रमुख रोग सफेद रोग, विषाणु झुलसा, म्यान झुलसा, भूरा धब्बा, जीवाणु धारी, झोका, खैरा आदि हैं। इन सभी के प्रबंधन के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना बहुत आवश्यक है। गर्मियों की जुताई और मेड़ों की छंटाई करते समय घास को साफ करना बहुत जरूरी है।

12. कीट प्रबंधन

चावल की फसल(Chawal ki kheti) में प्रमुख कीट दीमक, पत्ती-झुर्रीदार कीट, जुगाली करने वाले, सैन्य कीट, तना छेदक आदि हैं। इन सभी के नियंत्रण के लिए सबसे पहले गर्मियों में जुताई और खरपतवार की छंटाई और घास की सफाई करनी चाहिए। मुझे चाहिए

13. फसल कटाई

फसल की कटाई और कटाई का भी एक समय होता है, जब उसे करना चाहिए। किसानों को इन बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। जब 50% झुमके खेत में पक जाएं तो फसल से पानी निकाल देना चाहिए। दानों का रंग सुनहरा होने पर 80 से 85 प्रतिशत के बाद या कान की बाली के 30 से 35 दिन बाद कटाई कर लेनी चाहिए। इससे अनाज को गिरने से बचाया जा सकता है। कटाई से पहले अवांछित पौधों और खरपतवारों को खेत से हटा देना चाहिए। धान की कटाई के तुरंत बाद थ्रेसिंग कर अनाज को हटा देना चाहिए।

यह भी देखें :- मक्का की खेती कैसे करें

अंतिम शब्द :-

किसान भाइयो आपको इस पोस्ट में हमने चावल की खेती(Chawal ki kheti) के बारे में बहुत सी जानकारी दी है जिसके कारण आपको चावल की खेती(Chawal ki kheti) करने में आसानी होगी | अगर पोस्ट अच्छी लगी तो अपने दोस्तों को भी शेयर करे, ताकि उनको भी जानकारी मिले |

आपका दिन शुभ हो, धन्यवाद 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *